महाकाल के दर्शन करने पहुंचे BJP नेता कैलाश विजयवर्गीय, पूजा को लेकर हंगामा

0 201

उज्जैन। बीजेपी नेता कैलाश विजयवर्गीय शुक्रवार की सुबह उज्जैन के प्रसिद्ध महाकाल के दर्शन करने मंदिर पहुंचे। लेकिन अब उनके इस दर्शन को लेकर हंगामा शुरू हो गया है। महाकाल मंदिर के पुजारियों ने अरोप लगाया है कि विजयवर्गीय के इस वीआईपी दर्शन से मंदिर की सालों से चली आ रही परंपरा टूट गई और भस्म आरती में देरी हुई है। मंदिर के मुख्य पुजारी अजय पंडित और संजय पुजारी ने इस मामले को उठाते हुए कहा है कि वीआईपी दर्शन की वजह से मंदिर में सालों से चली आ रही भस्म आरती की परंपरा टूटी है। उन्होंने आरोप लगाया कि वीआईपी मूवमेंट के कारण आरती आधे घंटे देर से शुरू हुई।

कहा जा रहा है कि वीआईपी नेताओं के मंदिर में आने के बाद पंडित अजय और संजय पुजारी को भी मंदिर के अंदर प्रवेश करने से रोका गया। मंदिर के पुजारी के अनुसार विजयवर्गीय और उनके बेटे और भाजपा विधायक आकाश विजयवर्गीय, बीजेपी विधायक रमेश मेन्डोला और कुछ अन्य लोगों ने सुबह करीब 3 बजे मंदिर में प्रवेश किया और गर्भगृह में जाकर पूजा-अर्चना की। नागपंचमी के अवसर पर इन लोगों ने दूध और पानी भी चढ़ाया। मंदिर प्रशासन ने इस दौरान मंदिर में प्रवेश के सभी दरवाजे बंद कर दिये और सीसीटीवी कैमरों को बंद कर दिया था।

भस्म आरती में नहीं है प्रवेश की अनुमति

मंदिर के मुख्य पुजारी अजय पंडित ने आरोप लगाया है कि वीआईपी दर्शन ने मंदिर के प्रोटोकॉल को तोड़ा है। भस्म आरती, जो सुबह 4 बजे से 5 बजे के बीच में होनी थी वो 4.30 बजे शुरू हुई। चूकि बीजेपी के नेता पूजाकर रहे थे इसलिए आरती की तैयारी करने में देर हुई। मंदिर प्रशासन ने वीआईपी मूवेंट को काफी गुप्त बना रखा था इसी वजह से मंदिर के सभी द्वार बंद थे। उन्होंने यह भी कहा कि ‘मैं मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से मिलकर वीआईपी दर्शन के मुद्दे को हल करने के विषय में बातचीत करूंगा।’ उन्होंने कहा कि कोरोना की वजह से भस्म आरती के समय वीआईपी और आम श्रद्धालु किसी जो भी प्रवेश की अनुमति नहीं दी गई है।

Leave A Reply