रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने की शस्त्र पूजा, सीमा विवाद को लेकर कही यह बड़ी बात

0 68

दार्जिलिंग। विजयदशमी के इस पावन अवसर पर रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने आज रविवार को पश्चिम बंगाल के दार्जिलिंग में सुकना युद्ध स्मारक में शस्त्र पूजा की। इस मौके पर रक्षामंत्री राजनाथ सिंह के साथ भारतीय सेना प्रमुख जनरल मनोज मुकुंद नरवणे भी मौजूद रहें। शस्त्र पूजन के बाद रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने कहा, “भारत चीन की सीमा पर जो तनाव चल रहा है भारत ये चाहता है कि तनाव खत्म हो, शांति स्थापित हो लेकिन कभी-कभी नापाक हरकत होती रहती है। मैं पूरी तरह से आश्वस्त हूं कि हमारे सेना के जवान किसी भी सूरत में अपने भारत की एक इंच भी जमीन किसी दूसरे के हाथों में जाने नहीं देंगे।” रक्षामंत्री ने शस्त्र पूजा की फोटो सोशल मीडिया पर पोस्ट करते हुए लिखा, ”शस्त्रपूजन भारत की सैन्य परम्परा का अभिन्न अंग है। आज विजयादशमी के पावन अवसर पर ‘त्रिशक्ति कोर’ के सुखना स्थित मुख्यालय में आयोजित शस्त्रपूजन समारोह में भाग लेने का सौभाग्य मिला”।

यह भी पढ़ें:-अभिनेत्री कंगना ने उठाया आरक्षण का मुद्दा, ब्राह्मणों को लेकर कह दी ये बड़ी बात

इसके अलावा रक्षा मंत्री ने सिक्किम में बीआरओ द्वारा बनाए गए एक एक्सल रोड का ई-उद्घाटन किया। इस कार्यक्रम के बाद रक्षा मंत्री ने कहा, “आज नेशनल हाईवे-310 के आंशिक वैकल्पिक मार्ग को, सिक्किम की जनता को समर्पित करते हुए मुझे अपार खुशी हो रही है। ‘गंगटोक’ से ‘नाथू-ला’ को जोड़ने वाला NH-310, पूर्वी सिक्किम के सीमावर्ती क्षेत्रों के लोगों की जीवन रेखा है। 19.35 किलोमीटर लम्बे वैक्लपिक एन. एच. 310 का निर्माण करके, BRO ने पूर्वी सिक्किम के निवासियों एवं सेना की आकांक्षाओं को पूरा किया है।”

यह भी पढ़ें:-नवमी पर सीएम योगी ने किया कन्या पूजन, प्रदेशवासियों को दी शुभकामनाएं

रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने इसके आगे बोलते हुए कहा कि पुराने वैकल्पिक मार्ग NH-310 पर भारी मात्रा में भूस्खलन और सिंकिंग की संभावनाओं वाला क्षेत्र है। इससे बरसात के मौसम में, यहां के लोगों और सेना को आवागमन में दिक्कतों का सामना करना पड़ता है। अब इस 19.35 किलोमीटर वैकल्पिक मार्ग NH-310 बन जाने से ये दिक्कतें दूर हो सकेंगी।” आपकी जानकारी के लिए बता दें कि, पूर्वी लद्दाख में भारत और चीन के बीच लगभग पांच महीने से सीमा पर गतिरोध चल रहा है जिससे उसके संबंधों में तनाव आया है।

यह भी पढ़ें:-पीएम मोदी की अपील- ‘वोकल फॉर लोकल’ का अपना संकल्प अवश्य याद रखें