इमेज टुडे - ज़िन्दगी में भर दे रंग - समाचारों का द्विभाषीय पोर्टल

सीताराम येचुरी का केंद्र पर हमला, कहा- प्राइवेट है पीएम केयर फंड      ||      दिल्ली सरकार के मंत्री कैलाश गहलोत कोरोना पॉजिटिव, ट्वीट कर दी जानकारी      ||      जम्मू कश्मीर के कुलगाम में जैश-ए-मोहम्मद के दो आतंकी गिरफ्तार      ||      यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ कोरोना पॉजिटिव, ट्वीट कर दी जानकारी      ||      यूपीः CM योगी और अखिलेश यादव को कोरोना, प्रियंका गांधी का ट्वीट- आप सुरक्षित रहें      ||     

किसानों के समर्थन में उतरे गुरिंदर सिंह खालसा, सिंघु बार्डर पर रहें मौजूद

Shikha Awasthi 30-03-2021 15:07:12 14 Total visiter


दिल्ली। देश में चल रहें किसान आंदोलन को सात महीने से ज्यादा का समय हो गया है। देश-विदेश की कई जानी-मानी हस्तियां भी किसान आंदोलन के समर्थन में उतरी हैं। पॉप स्टार रिहाना, मशहूर पर्यावरणविद ग्रेटा थनबर्ग के बाद अब अमेरिका में भारतीय मूल के प्रसिद्ध इनोवेटर और फिलनथ्रोपिस्ट गुरिंदर सिंह खालसा ने किसानों को अपना समर्थन दिया है। बता दें कि गुरिंदर सिंह 29 मार्च को सिंघु बॉर्डर पर किसानों के आंदोलन में भाग लेने पहुंचे थे। वे 30 मार्च को भी सिंघु बॉर्डर पर किसानों के समर्थन में मौजूद रहे। रोजा पार्क्स ट्रेबलाइजर अवार्ड से सम्मानित गुरिंदर सिंह खालसा इंडियानापोलिस में रहते हैं। वे अमेरिका में सिख पॉलिटिकल एक्शन कमिटी (पीएसी) के चेयरमैन भी हैं। सोमवार को वे सिंघु बॉर्डर पर किसानों का पूरी तरह समर्थन किया और विवादास्पद तीनों कृषि कानूनों को वापस लेने की मांग की।

बता दें कि इससे पहले गुरिंदर सिंह ने संयुक्त किसान मोर्चा को पत्र लिखकर आंदोलन का समर्थन किया था। अपने पत्र में गुरिंदर सिंह ने लिखा था मैं गुरिंदर सिंह खालसा, पीएसी का चेयरमैन पूरी तरह से किसान आंदोलन का समर्थन करता हूं। वर्तमान में मैं भारत में हूं और निजी तौर पर मैं किसान आंदोलन में शामिल होकर अपनी भावना व्यक्त करना चाहता हूं।

उन्होंने लिखा था कि मैं 29 और 30 मार्च को किसान एकता मोर्चा के आंदोलन में सिंघु बॉर्डर पर भाग लूंगा। सरकारी की मनमानी के बारे में बात करते हुए गुरिंदर सिंह ने बताया कि देश पर दक्षिणापंथ सरकार की पकड़ बहुत मजबूत है। विपक्ष बहुत कमजोर हो चुका है। वह अकेले दम पर सरकार की शक्ति को कुछ नहीं कर सकता। ऐसे में क्रांति ही एक रास्ता बचता है जिससे सरकार की मनमानी को रोका जा सकता है। अगर इस आंदोलन का सफल नहीं बनाया गया तो अगली क्रांति करने में बहुत समय लगेगा।


 

 

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :