इमेज टुडे - ज़िन्दगी में भर दे रंग - समाचारों का द्विभाषीय पोर्टल

दिल्लीः हरिद्वार कुंभ से लौटे श्रद्धालुओं को रहना होगा 14 दिन क्वारनटीन, DDMA का आदेश      ||      MP: शहडोल-मेडिकल कॉलेज में ऑक्सीजन की कमी के चलते 6 मरीजों की मौत      ||      UP: कोरोना के चलते इस साल अयोध्या में नहीं लगेगा रामनवमी का उत्सव मेला      ||      कोरोना: भारत में पिछले 24 घंटों में कोरोना के 2,61,500 नए मामले, 1501 मरीजों की मौत      ||      कोरोना: JEE (Mains) का अप्रैल सेशन स्थगित, परीक्षा से 15 दिन पहले जारी होगी नई तारीख- NTA      ||     

छह साल के लंबे इंतजार के बाद अब दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेसवे खुला, यूपी से मेरठ का सफर 1 घंटे में

Shikha Awasthi 01-04-2021 13:09:19 172 Total visiter


यूपी। छह साल के लंबे इंतजार के बाद अब दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेसवे को आम लोगों के लिए खोल दिया गया है। एक्सप्रेसवे का यूपी गेट से डासना तक दूसरा और डासना से मेरठ तक चौथा चरण शुरू होने से यूपी गेट से मेरठ का सफर 1 घंटे और गाजियाबाद से मेरठ का सफर आधे घंटे में अब पूरा हो रहा है।

बता दें कि 82.01 किमी लंबे एक्सप्रेसवे के निर्माण पर 8346 करोड़ की लागत आई है। एक्सप्रेसवे पर टोल दरें इस हफ्ते तय होने की संभावना जताई जा रही है। ऐसे में तब तक बगैर खर्चे के लोग सफर खर सकते हैं। एक्सप्रेसवे पर एबीईएस के पास आरओबी के निर्माण के करीब 700 मीटर तक के हिस्से का काम मई तक पूरा होने की संभावना जताई जा रही है।

अब करीब 82 किमी के एक्सप्रेसवे का सफर 60 मिनट में तय होगा। दिल्ली और गाजियाबाद आने वाले यात्री जाम को बाईपास कर सकेंगे। उन्हें पुराने दिल्ली-मेरठ मार्ग पर लगने वाले जाम से निजात मिलेगी। अब वे सीधे एक्सप्रेसवे से आ जा सकेंगे। गाजियाबाद से मेरठ 25 मिनट में पहुंचेंगे। इससे एनसीआर की कनेक्टिविटी बेहतर हो जाएगी। फिलहाल राहत की बात यह है कि अभी टोल की दर तय नहीं हुई है। कुछ दिन बिना टोल के वाहन फर्राटा भर सकेंगे। 

दूसरी ओर उत्तराखंड जाने वाले लोगों को दिल्ली-मेरठ हाईवे के लंबे जाम से स्थायी रूप से छुटकारा मिल जाएगा। दिल्ली-मेरठ की दूरी को कम करने के लिए 2008 में मंथन शुरू हुआ। फिर केंद्र में 2014 में भाजपा सरकार आने के बाद दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेसवे के निर्माण की कवायद शुरू हुई। 2015 दिसंबर में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने प्रोजेक्ट की आधारशिला रखी। पहले प्रोजेक्ट को नवंबर 2019 में पूरा करने की समय सीमा तय की गई थी। लेकिन तकनीकी कारणों और फिर कोरोना महामारी के चलते प्रोजेक्ट की समय सीमा करीब डेढ़ साल बढ़ गई।

बता दें कि दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेस-वे पर वाहनों की रफ्तार और चलती हुई गाड़ी की नंबर प्लेट पर नजर रखने के लिए कुल 170 सीसीटीवी कैमरा लगाए गए हैं। कैमरों का ट्रायल लगभग पूरा हो चुका है। कैमरों की मदद से हर पल वाहनों पर नजर रखी जाएगी। गाड़ी की स्पीड से लेकर गाड़ी में अंदर बैठे यात्री तक पर एनएचएआई (नेशनल हाईवे अथॉरिटी ऑफ इंडिया) कैमरों की मदद से नजर रखेगी।

 

 

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :