इमेज टुडे - ज़िन्दगी में भर दे रंग - समाचारों का द्विभाषीय पोर्टल

कोरोनाः ICSE बोर्ड ने रद्द की 10वीं की परीक्षा, 12वीं की परीक्षा होगी ऑफलाइन      ||      अमेरिकी डॉलर के मुकाबले 23 पैसे मजबूत हुआ रुपया      ||      CEC सुशील चंद्र और चुनाव आयुक्त राजीव कुमार कोरोना पॉजिटिव      ||      कोरोनाः हाईकोर्ट की फटकार के बाद एक्टिव हुई तेलंगाना सरकार, 30 अप्रैल तक नाइट कर्फ्यू      ||      कोरोनाः यूपी में वीकेंड कर्फ्यू, 500 से अधिक एक्टिव केस वाले जिलों में लगेगा नाइट कर्फ्यू      ||      यूपीः हमीरपुर जेल के डिप्टी जेलर की कोरोना से मौत, सीओ और कई डॉक्टर संक्रमित      ||      दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल की पत्नी कोरोना पॉजिटिव      ||     

पाकिस्तान ने Tik Tok पर लगे बैन को हटाया, आपत्तिजनक कंटेंट के चलते लगा था प्रतिबंध

02-04-2021 15:38:46 33 Total visiter


पाकिस्तान। पाकिस्तान ने दूसरी बार चीनी ऐप टिक टॉक पर लगे प्रतिबंध को हटा दिया है। पेशावर की एक अदालत ने दूसरी बार चीनी वीडियो शेयरिंग ऐप पर लगी रोक को हटा दिया है। साथ ही वल्गर कंटेंट को न दिखाने की चेतावनी भी दी है। अब फिर से पाक की जनता टिक टॉक पर अपने पसंदीदा वीडियो को बना सकेगी और इसका लुत्फ उठा सकेगी। वहीं पिछले साल अक्टूबर 2020 में पाकिस्तान में टिक टॉक पर बैन लगाया गया था।

पाकिस्तान सरकार के मुताबिक इसमें बनने वाला वल्गर कंटेंट देश के नैतिक मूल्यों पर खराब असर डाल रहा था। इसलिए चीनी ऐप को बंद करने का फैसला लिया गया। वहीं अदालत की सुनवाई के दौरान एजेंसी के वरिष्ठ अधिकारी तारिक गंडापुर ने कहा कि वल्गर कंटेंट को शेयर होने से रोकने के लिए इस पर बैन लगाया गया था. इस चीनी ऐप को पाकिस्तान की जनता ने लगभग 39 मिलियन बार डाउनलोड किया है। जानकारी के मुताबिक ऐप कंपनी ने आश्वासन दिया है कि अब इसमें आपत्तिजनक कंटेंट नहीं देखने को मिलेगा।

टिक टॉक पर लगी रोक हटने का स्वागत

पाकिस्तान की जनता ने दूसरी बार टिक टॉक का स्वागत किया है। लोगों में टिक टॉक के प्रति खुशी और उत्साह देखने को मिल रहा है। वहीं माना जा रहा है कि ये एक सुरक्षित और सकारात्मक समुदाय को ऑनलाइन बढ़ावा देने के लिए प्रेरित करेगा।

टिक टॉक से बढ़ रहे अपराध

टिकटॉक को पाकिस्तानी में युवाओं के अलावा ग्रामीण क्षेत्रों में रहने वाले ज्यादा पसंद करते हैं। वहीं प्रधानमंत्री इमरान खान के सलाहकारों में से एक ने इस ऐप पर दिखाए जाने वाले कंटेंट को लड़कियों के साथ होने वाले शारीरिक और मानसिक शोषण के लिए दोषी माना है।

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :