इमेज टुडे - ज़िन्दगी में भर दे रंग - समाचारों का द्विभाषीय पोर्टल

कोरोनाः ICSE बोर्ड ने रद्द की 10वीं की परीक्षा, 12वीं की परीक्षा होगी ऑफलाइन      ||      अमेरिकी डॉलर के मुकाबले 23 पैसे मजबूत हुआ रुपया      ||      CEC सुशील चंद्र और चुनाव आयुक्त राजीव कुमार कोरोना पॉजिटिव      ||      कोरोनाः हाईकोर्ट की फटकार के बाद एक्टिव हुई तेलंगाना सरकार, 30 अप्रैल तक नाइट कर्फ्यू      ||      कोरोनाः यूपी में वीकेंड कर्फ्यू, 500 से अधिक एक्टिव केस वाले जिलों में लगेगा नाइट कर्फ्यू      ||      यूपीः हमीरपुर जेल के डिप्टी जेलर की कोरोना से मौत, सीओ और कई डॉक्टर संक्रमित      ||      दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल की पत्नी कोरोना पॉजिटिव      ||     

रोडवेज के 4 हजार रिटायर्ड कर्मचारी आज से शुरू करेंगे प्रदर्शन, 56 महीनों से अटका है 500 करोड़ का भुगतान

vishal RAO 05-04-2021 12:01:43 211 Total visiter


जयपुर। रोडवेज के सेवानिवृत कर्मचारी पिछले 56 माह से अपने ही हक के पैसों के लिए तरस रहे हैं. अगस्त 2016 से रिटायर हुए करीब 4 हजार कर्मचारियों को रोडवेज ने अभी तक भुगतान नहीं किया है। ये कर्मचारी कई बरसों से अपने भुगतान के लिए आंदोलनरत हैं। आज से इन कर्मचारियों का प्रदेश स्तरीय धरना जयपुर में शुरू हो रहा है. शहीद स्मारक पर ये कर्मचारी लगातार पांच दिन आरएसआरटीसी रिटायर्ड एम्पलाइज एसोसिएशन के बैनर तले धरना देंगे।

रोडवेज के इन सेवानिवृत कार्मिकों में चतुर्थ श्रेणी से लेकर अधिकारी स्तर के कार्मिक शामिल हैं। इन सभी को इनके रिटायरमेंट के समय मिलने वाले परिलाभों का भुगतान अभी तक नहीं हुआ है। इन कार्मिकों को सेवानिवृति के समय ग्रेच्युटी, उपार्जित अवकाश, पांचवें और छठवें वेतन आयोग के एरियर की एक मुश्त राशि मिलती है।

इनका भुगतान भी मिलता है

वहीं चालक-परिचालक को इसके अलावा नौकरी के दौरान किए गए ओवरटाइम, पब्लिक होलि-डे और साप्ताहिक अवकाश के दौरान किए गए काम का भी भुगतान होता है। लेकिन यह भुगतान इन कर्मचारियों को पिछले 56 माह से नहीं हुआ है। रोडवेज मे हर माह रिटायर होने वाले कर्मचारियों की संख्या बढ़ती जाती है। इस समय करीब 4 हजार कार्मिकों का रोडवेज पर 500 करोड़ से ज्यादा का भुगतान बकाया चल रहा है।

जब तक पूरा भुगतान नहीं, तब तक कोई विश्राम नहीं

आरएसआरटीसी रिटायर्ड एम्पलाइज एसोसिएशन की प्रदेश कार्य समिति की जयपुर में आयोजित बैठक में 'जब तक पूरा भुगतान नहीं, तब तक कोई विश्राम नहीं' का नारा देते हुए आंदोलन कार्यक्रम घोषित किए गए थे. इसके तहत 17 फरवरी को सभी जिला कलक्टर्स और उपखण्ड मुख्यालयों पर विरोध प्रदर्शन करते हुए सीएम अशोक गहलोत के नाम ज्ञापन सौंपे गए। उसके बाद 9 मार्च को जयपुर में प्रदेश स्तरीय रैली निकाली गई।

सरकार कोई कदम नहीं उठा रही है

एसोसिएशन के महासचिव हरगोविंद शर्मा ने बताया कि इससे पहले भी जनवरी माह में 18 जनवरी से 22 जनवरी तक जयपुर में प्रदेशस्तरीय धरने दिए गए थे। लेकिन निरंतर आंदोलन कार्यक्रमों के बाद भी सरकार द्वारा इस दिशा में कोई सकारात्मक कदम नहीं उठाए गए।

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :