इमेज टुडे - ज़िन्दगी में भर दे रंग - समाचारों का द्विभाषीय पोर्टल

देशभर में 18 साल से ऊपर के लोगों को वैक्सीनेशन के लिए आज से शुरू हो रहा रजिस्ट्रेशन      ||      लखनऊ: मेदांता अस्पताल में मरीजों की मदद के लिए प्रियंका गांधी ने भेजा ऑक्सीजन का टैंकर      ||      भारत में कोरोना की बिगड़ती स्थिति पर संयुक्त राष्ट्र संघ ने बढ़ाया मदद का हाथ      ||      असम में आए भूकंप पर प्रियंका गांधी ने कहा- असम के लोगों के लिए मेरा प्यार और प्रार्थनाएं      ||      PM CARES से DRDO खड़े करेगा 500 ऑक्सीजन प्लांट      ||     

भारत पहुंचे रूसी विदेश मंत्री लावरोव, जयशंकर के साथ बैठक आज

vishal RAO 06-04-2021 10:58:16 27 Total visiter


नई दिल्ली। रूस के विदेश मंत्री सर्गेई लावरोव दो दिवसीय यात्रा पर सोमवार रात दिल्ली पहुंच गए। उनकी यह यात्रा तब हो रही है जब दोनों देशों के ऐतिहासिक और बेहद मजबूत रिश्तों में कुछ तनाव आने के संकेत दिख रहे हैं। लावरोव की मंगलवार को विदेश मंत्री एस. जयशंकर से मुलाकात होगी जिसमें तमाम द्विपक्षीय मुद्दों के अलावा ब्रिक्स, एससीओ और आरआइसी (रूस, भारत, चीन) जैसे संगठनों की भावी बैठकों को लेकर भी चर्चा होगी। बैठक में रूस से खरीदे जाने वाले एंटी मिसाइल सिस्टम एस-400 को लेकर भी चर्चा होगी। साथ ही भारत की कोशिश होगी कि अफगानिस्तान में चल रही शांति समझौते की प्रक्रिया को लेकर भी रूस का पक्ष जाना जाए कि वह भारत की कितनी अहमियत दे रहा है।

लावरोव भारत से सीधे पाकिस्तान के लिए होंगे रवाना

दोनों देशों के बीच वार्ता करने के लिए तमाम विषय हैं, लेकिन लावरोव की इस यात्रा के दो पहलुओं से समझा जा सकता है कि भारत व रूस के कूटनीतिक रिश्तों में सब कुछ सामान्य नहीं है। पहली बात तो यह कि भारत की यात्रा के बाद लावरोव सीधे पाकिस्तान की राजधानी इस्लामाबाद जाएंगे। वर्ष 2012 के बाद रूस का कोई विदेश मंत्री पाकिस्तान की यात्रा पर जाएगा, लेकिन यह पहली बार है कि रूस का कोई बड़ा नेता भारत आने के बाद पाकिस्तान की यात्रा पर जा रहा है।

रूस पाकिस्तान को अपने भावी बाजार के तौर पर देख रहा

कुछ जानकारों का यह भी कहना है कि भारत अब रूस का बड़ा हथियार खरीदार देश नहीं रहा, ऐसे में रूस पाकिस्तान को अपने भावी बाजार के तौर पर देख रहा है। वैसे भारत अभी भी रूस से अपनी जरूरत का 60 फीसद सैन्य साजों-समान खरीदता है। एक दशक पहले यह 90 फीसद था। अमेरिकी प्रतिबंध के बावजूद भारत ने एस-400 एंटी मिसाइल सिस्टम खरीदने का फैसला किया और अभी तक इस पर अडिग है। इसकी आपूर्ति अगले वर्ष से होने की संभावना है।
 

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :