इमेज टुडे - ज़िन्दगी में भर दे रंग - समाचारों का द्विभाषीय पोर्टल

कोरोनाः ICSE बोर्ड ने रद्द की 10वीं की परीक्षा, 12वीं की परीक्षा होगी ऑफलाइन      ||      अमेरिकी डॉलर के मुकाबले 23 पैसे मजबूत हुआ रुपया      ||      CEC सुशील चंद्र और चुनाव आयुक्त राजीव कुमार कोरोना पॉजिटिव      ||      कोरोनाः हाईकोर्ट की फटकार के बाद एक्टिव हुई तेलंगाना सरकार, 30 अप्रैल तक नाइट कर्फ्यू      ||      कोरोनाः यूपी में वीकेंड कर्फ्यू, 500 से अधिक एक्टिव केस वाले जिलों में लगेगा नाइट कर्फ्यू      ||      यूपीः हमीरपुर जेल के डिप्टी जेलर की कोरोना से मौत, सीओ और कई डॉक्टर संक्रमित      ||      दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल की पत्नी कोरोना पॉजिटिव      ||     

सुप्रीम कोर्ट का बड़ा बयान, कहा- केसों का बोझ बढ़ाने के लिए हम स्वयं भी जिम्मेदार

27-02-2021 22:08:16 56 Total visiter


नई दिल्ली। देश की सर्वोच्च न्यायालय यानी सुप्रीम कोर्ट ने माना है कि मुकदमों का बोझ बढ़ाने में कुछ हद तक वह स्वयं भी जिम्मेदार है। कोर्ट ने कहा कि जब हम किसी पक्ष को लिखित आश्वासन देने के लिए अनुमति देते हैं, तो ज्यादातर मामलों में इसके बाद अवमानना याचिका दाखिल की जाती है। इस तरह से हमारे सामने सैकड़ों अवमानना याचिकाएं लंबित हैं। जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़ की बेंच ने कहा कि वास्तव में हम सुप्रीम कोर्ट में मुकदमों को बढ़ा रहे हैं।

जस्टिस चंद्रचूड़ और एमआर शाह की पीठ कर्नाटक उच्च न्यायालय के आदेशों के खिलाफ एक पर विशेष अनुमति याचिका पर विचार कर रही थी, जिसमें मकान खाली करने के आदेश के खिलाफ संशोधन याचिका खारिज कर दी गई थी। फिर इस फैसले पर पुनर्विचार भी दायर की गई थी और याचिकाकर्ता-किरायेदार को खाली करने के लिए अतिरिक्त समय देने के विशेष आग्रह को स्वीकार कर लिया था। लेकिन इस मामलें में फिर से याचिका दायर कर खाली करने के लिए समय की मांग की गई थी। पीठ ने कहा, कभी-कभी हम मकान खाली करने के लिए छह महीने या एक साल तक खाली करने का समय बढ़ाते हैं। 

लेकिन ये ऐसे मामले हैं जो निचली अदालतों में 15 साल और यहां तक कि दो दशकों तक लंबित हैं। क्या हमें इस समय का आगे विस्तार क्यों करना चाहिए। पीठ ने कहा कि जहां एक पक्ष अदालत के आदेश के अनुपालन में एक विशिष्ट अवधि में परिसर खाली करने की लिखित आश्वासन देता है। वहीं दूसरा पक्ष, ज्यादातर मामलों में इसका उल्लंघन होने पर अदालत में फिर से अवमानना याचिका दायर करने के लिए मजबूर होता है। जस्टिस शाह ने इस बात से सहमति जाहिर की और कहा कि हम सर्वोच्च न्यायालय का बोझ बढ़ाने के लिए जिम्मेदार हैं। बाद में कोर्ट ने यह याचिका खारिज कर दी।

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :