इमेज टुडे - ज़िन्दगी में भर दे रंग - समाचारों का द्विभाषीय पोर्टल

देशभर में 18 साल से ऊपर के लोगों को वैक्सीनेशन के लिए आज से शुरू हो रहा रजिस्ट्रेशन      ||      लखनऊ: मेदांता अस्पताल में मरीजों की मदद के लिए प्रियंका गांधी ने भेजा ऑक्सीजन का टैंकर      ||      भारत में कोरोना की बिगड़ती स्थिति पर संयुक्त राष्ट्र संघ ने बढ़ाया मदद का हाथ      ||      असम में आए भूकंप पर प्रियंका गांधी ने कहा- असम के लोगों के लिए मेरा प्यार और प्रार्थनाएं      ||      PM CARES से DRDO खड़े करेगा 500 ऑक्सीजन प्लांट      ||     

चुनाव की ड्यूटी से लौटी शिक्षिका की मौत, परिजनों ने जबरदस्ती ड्यूटी करवाने का लगाया आरोप 

Shikha Awasthi 02-05-2021 14:00:22 12 Total visiter


लखनऊ। प्रदेश में बढ़ते कोरोना के मामलों के संपन्न कराए गए पंचायत चुनाव को लेकर योगी सरकार की मुसीबतें काम होने का नाम नहीं ले रहीं है। हालहि में इलाहबाद हाई कोर्ट में एक याचिका दायर की गई थी जिसमें कहा गया था कि यूपी पंचायत चुनाव में चुनावी ड्यूटी के दौरान लगभग 700 शिक्षकों की मृत्यु हो गई। साथ ही पूछा गया था कि सरकार उन शिक्षकों के परिवार वालों के लिए क्या कदम उठा रही है। इस याचिका को गंभीरता से लेते हुए हाई कोर्ट ने सरकार से उन तमाम शिक्षकों की लिस्ट मांगी थी जिनकी मौत पंचयत चुनाव में ड्यूटी के दौरान हुई है। 
अभी सरकार की ओर से जवाब आना बाकि था कि उत्तर प्रदेश के सुलतानपुर से दिल को दहला देने वाली खबर सामने आई है। यहां बुखार की हालत में पंचायत चुनाव में ड्यूटी करने गई प्राइमरी स्कूल की प्रिंसिपल की ड्यूटी से लौटने के बाद मौत हो गई है।

जानकारी के मुताबिक, शहर के डिहवा मोहल्ले के प्राइमरी स्कूल में फरीदा सिद्दीकी प्रिंसिपल के पद पर थीं। वो एजुकेशन कालोनी में रहती थीं। पति मुशीर अहमद के अनुसार, 19 अप्रैल को होने वाले पंचायत चुनाव से पहले जब फरीदा सिद्दीकी ट्रेनिंग में गई तो उन्हें बुखार आ गया। उनकी ड्यूटी दोस्तपुर ब्लॉक के प्राथमिक पाठशाला मुस्तफाबाद कला में लगी थी।

ड्यूटी के लिए तैयार नहीं थी फरीदा

मृतक प्राइमरी स्कूल की प्रिंसिपल फरीदा के पति ने बताया कि अवस्था में पत्नी ड्यूटी के लिए तैयार नही थीं। आरओ और कादीपुर की नायब तहसीलदार से ड्यूटी काटने का रिक्वेस्ट भी किया था। लेकिन यह कहकर टाल दिया गया कि ड्यूटी नही कटेगी। आखिर में उन्होंने ड्यूटी किया, चुनाव से लौटने के बाद तबियत बिगड़ गई। जिसके बाद उन्हें इलाज के लिए प्रयागराज ले जाया गया जहां सात दिन बाद उनकी मौत हो गई। कोविड प्रोटोकॉल के चलते उनकी प्रयागराज में ही जनाजे की नमाज पढ़ी गई और फिर सुपुर्द खाक किया गया।

जन्म से विकलांग है बेटी

फरीदा सिद्दीकी के पति मुशीर ने बताया कि उनकी एक 23 साल की बेटी है जो बचपन से ही दोनो पैरों से चलने में असमर्थ है। पत्नी ही उसका ख्याल रखती थी अब कौन उसे देखेगा। उन्होंने कहा कि जरूरत पड़ी तो मैं इस मामले में कोर्ट तक जाऊंगा।

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :