इमेज टुडे - ज़िन्दगी में भर दे रंग - समाचारों का द्विभाषीय पोर्टल

देशभर में 18 साल से ऊपर के लोगों को वैक्सीनेशन के लिए आज से शुरू हो रहा रजिस्ट्रेशन      ||      लखनऊ: मेदांता अस्पताल में मरीजों की मदद के लिए प्रियंका गांधी ने भेजा ऑक्सीजन का टैंकर      ||      भारत में कोरोना की बिगड़ती स्थिति पर संयुक्त राष्ट्र संघ ने बढ़ाया मदद का हाथ      ||      असम में आए भूकंप पर प्रियंका गांधी ने कहा- असम के लोगों के लिए मेरा प्यार और प्रार्थनाएं      ||      PM CARES से DRDO खड़े करेगा 500 ऑक्सीजन प्लांट      ||     

श्री राम मंदिर विवाद पर ऐतिहासिक फैसला सुनाने वाले धर्मवीर शर्मा का निधन, CM ने जताया शोक

pooja 08-05-2021 13:32:43 19 Total visiter


लखनऊ: जीवनकाल में तमाम केसों का फैसला सुनाने वाले इलाहाबाद हाईकोर्ट के सेवानिवृत्त जज धर्मवीर शर्मा का शुक्रवार को निधन हो गया है. यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने उनके निधन पर अपनी शोक संवेदनाएं प्रकट की हैं. बता दें कि न्यायमूर्ति धर्मवीर शर्मा ने अयोध्या के श्रीराम जन्मभूमि विवाद पर 30 सितंबर, 2010 को इलाहाबाद हाई कोर्ट की लखनऊ पीठ की ओर से ऐतिहासिक फैसले में शामिल थे. उनके निधन पर परिजनों में शोक की लहर दौड़ गई है. 

जानकारी के मुताबिक सेवानिवृत्त न्यायमूर्ति धर्मवीर शर्मा के परिवारीजन अंकित गौतम ने बताया कि गुरुवार रात वह पूर्ण स्वस्थ थे. शुक्रवार सुबह अचानक तबीयत बिगड़ने पर उन्हें नोएडा के एक अस्पताल में भर्ती कराया. दोपहर में उन्होंने अंतिम सांस ली. बुलंदशहर स्थित परिवार वालों के मुताबिक, गढ़मुक्तेश्वर में गंगा घाट पर उनका अंतिम संस्कार किया गया.

राम मंदिर विवाद पर ऐतिहासिक फैसला

धर्मवीर शर्मा ने 30 सितंबर, 2010 को इलाहाबाद उच्च न्यायालय की तीन सदस्यीय पीठ में रहते हुए राम मंदिर विवाद पर ऐतिहासिक फैसला सुनाया था. फैसला सुनाने के अगले दिन ही वह सेवानिवृत्त हो गए थे. अविवाहित रहे धर्मवीर शर्मा छह भाई-बहनों में सबसे बड़े थे. गांव में उनका सदैव आना-जाना रहता था. सादा जीवन-उच्च विचार के सिद्धांत में विश्वास रखते थे. उनकी सादगी का बड़ा प्रमाण यह भी है कि इतने बड़े और सम्मानित पद पर रहने के बावजूद वह अपना भोजन स्वयं बनाते थे.

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :