इमेज टुडे - ज़िन्दगी में भर दे रंग - समाचारों का द्विभाषीय पोर्टल

देशभर में 18 साल से ऊपर के लोगों को वैक्सीनेशन के लिए आज से शुरू हो रहा रजिस्ट्रेशन      ||      लखनऊ: मेदांता अस्पताल में मरीजों की मदद के लिए प्रियंका गांधी ने भेजा ऑक्सीजन का टैंकर      ||      भारत में कोरोना की बिगड़ती स्थिति पर संयुक्त राष्ट्र संघ ने बढ़ाया मदद का हाथ      ||      असम में आए भूकंप पर प्रियंका गांधी ने कहा- असम के लोगों के लिए मेरा प्यार और प्रार्थनाएं      ||      PM CARES से DRDO खड़े करेगा 500 ऑक्सीजन प्लांट      ||     

एक डोज की जगह लगाई 6 वैक्सीन की डोज, जानें फिर क्या हुआ

pooja 11-05-2021 19:03:03 22 Total visiter


न्यूज डेस्क। दुनिया के किसी भी कोने में कोरोना महामारी अभी तक पूरी तरह से खत्म नहीं हुई है। विदेशों में हालात भले ही भारत से बेहतर हैं लेकिन यह पूरी तरह से खत्म नहीं हुआ है। इसे जड़ से खत्म करने के लिये लोगो को सावधानी बरतनी होगी। थोड़ी भी लापरवाही से यह महामारी और भी घातक हो सकती है। जनता की लोपरवाही पर तो लोग टिप्पणीं दे देंगे लेकिन जब अस्पतालों की ओर से ही लापरवाही बरती जायेगी तो क्या करेंगे?

हाल ही में एक मामला सामने आया है। इटली में एक महिला को फाइजर की कोरोना वैक्सीन की 6 खुराकें लगा दी गईं। एक खुराक की जगह पूरी एक बोतल वैक्सीन लगने के बाद महिला की तबीयत तो खराब नहीं हुई लेकिन एहतियात के तौर पर अस्पताल में भर्ती कराया गया। बाद में कुछ असर न दिखने पर डिस्चार्ज कर दिया गया। लेकिन इतनी ज्यादा वैक्सीन दिए जाने के कारण अभी भी उन्हें मॉनिटर किया जा रहा है।

इटली के टस्कनी में स्थित नोआ अस्पताल में महिला को वैक्सीन रविवार को दी गई थी। अस्पताल की प्रवक्ता डैनियैला गियानली ने बताया कि महिला की तबीयत ठीक है और उन्हें कोई और बीमारी नहीं है। उन्हें वैक्सीन दिए जाने के बाद 24 तक अस्पताल में रखा गया और सोमवार को डिस्चार्ज कर दिया गया। एक स्वास्थ्यकर्मी ने गलती से सिरिंज में वैक्सीन की पूरी बोतल भर दी जिसमें 6 खुराकें होती हैं। वैक्सीन देने के कुछ देर बाद ही जब उन्होंने 5 खाली सिरिंज देखीं तब गलती का एहसास हुआ।

बता दें कि अप्रैल की शुरुआत में इटली की सरकार ने स्वास्थ्यकर्मियों और फार्मेसी में काम करने वालों के लिए वैक्सीन अनिवार्य कर दी थी जिससे मेडिकल स्टाफ, मरीजों और खतरे में पड़े लोगों को बचाया जा सके। सवाल यह उठता है कि यदि अस्पतालों में ऐसी लापरवाही बरती जा रही है तो जनता से क्या ही उम्मीद रखी जाए।

 

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :