इमेज टुडे - ज़िन्दगी में भर दे रंग - समाचारों का द्विभाषीय पोर्टल

देशभर में 18 साल से ऊपर के लोगों को वैक्सीनेशन के लिए आज से शुरू हो रहा रजिस्ट्रेशन      ||      लखनऊ: मेदांता अस्पताल में मरीजों की मदद के लिए प्रियंका गांधी ने भेजा ऑक्सीजन का टैंकर      ||      भारत में कोरोना की बिगड़ती स्थिति पर संयुक्त राष्ट्र संघ ने बढ़ाया मदद का हाथ      ||      असम में आए भूकंप पर प्रियंका गांधी ने कहा- असम के लोगों के लिए मेरा प्यार और प्रार्थनाएं      ||      PM CARES से DRDO खड़े करेगा 500 ऑक्सीजन प्लांट      ||     

चित्रकूट जेल में मारा गया मुख्तार अंसारी का करीबी, जानें क्या है पूरा मामला?

pooja 14-05-2021 13:51:56 17 Total visiter


चित्रकूट: यूपी के चित्रकूट में तबाडतोड़ फायरिंग से हड़कंप मच गया है. यहा जेल के अंदर से फायरिंग होने की सूचना आई है. इस गोलीकांड में तीन लोगों के मौत की खबर सामने आई है. सूचना मिलते ही मौके पर जिले के तमाम आलाधिकारी पहुंच गए हैं और जांच चल रही है. उधर जेल में शूटआउट की खबर से लखनऊ में भी हड़कंप मच गया है.

बता दे कि पुलिस से मिली जानकरी के अनुसार ये बताया जा रहा है कि जेल में निरुद्ध अंशुल दीक्षित नामक बंदी को कहीं से कट्टा मिल गया. इसके बाद उसने यहां बंद मेराजुद्दीन और मुकीम उर्फ काला पर गोली चला दी. हमले में दोनों की मौत हो गई. मुकीम काला पश्चिम यूपी का बड़ा बदमाश बताया जा रहा है. वहीं जवाबी कार्रवाई में अंशुल दीक्षित को पुलिस ने मार गिराया है. घटना की सूचना के बाद प्रशासन और पुलिस में हड़कंप मचा हुआ है. डीएम और एसपी मौके पर मौजूद हैं.

गोली से मारा गया मेराजुद्दीन मुख्तार का करीबी था

पता चला है कि मारा गया मेराजुद्दीन बांदा जेल में बंद माफिया मुख़्तार अंसारी का करीबी था. 20 मार्च 2021 को वाराणसी जेल से चित्रकूट जेल उसका ट्रांसफर हुआ था. मुकीम काला 7 मई 2021 को चित्रकूट जेल आया था. वहीं अंशू दीक्षित 8 दिसंबर 2019 से चित्रकूट जेल में था. वारदात आज सुबह 10 बजे की है.

ये है पूरा मामला 

बता दे कि चित्रकूट जेल से सूत्रों के अनुसार जिला जेल चित्रकूट की उच्च सुरक्षा बैरक में निरुद्ध अंशु दीक्षित पुत्र जगदीश जिला जेल सुल्तानपुर से प्रशासनिक आधार पर स्थानांतरित होकर चित्रकूट में निरूद्ध था. उसने शुक्रवार सुबह लगभग 10 बजे सहारनपुर से प्रशासनिक आधार पर आए बंदी मुकीम काला और वाराणसी जिला जेल से प्रशासनिक आधार पर आए मेराज अली को असलहे से गोली मारकर हत्या कर दी. इस दौरान उसने 5 अन्य बंदियों को अपने कब्जे में कर लिया और उन्हें जान से मारने की धमकी देने लगा. उसके पास असलहा था ऐसे में जिला प्रशासन को सूचना दी गई.

चित्रकूट के डीएम और एसपी मौके पर पहुंचे और बंदी को नियंत्रित करने का बहुत प्रयास किया. लेकिन वह 5 अन्य बंदियों को भी मार देने की धमकी देता रहा. पुलिस के अनुसार उसकी आक्रामकता तथा जिद को देखते हुए पुलिस द्वारा कोई विकल्प ना देखते हुए फायरिंग की गई, जिसमें अंशु दीक्षित भी मारा गया. कुल 3 बंदी इस घटना में मरे हैं. 

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :