इमेज टुडे - ज़िन्दगी में भर दे रंग - समाचारों का द्विभाषीय पोर्टल

देशभर में 18 साल से ऊपर के लोगों को वैक्सीनेशन के लिए आज से शुरू हो रहा रजिस्ट्रेशन      ||      लखनऊ: मेदांता अस्पताल में मरीजों की मदद के लिए प्रियंका गांधी ने भेजा ऑक्सीजन का टैंकर      ||      भारत में कोरोना की बिगड़ती स्थिति पर संयुक्त राष्ट्र संघ ने बढ़ाया मदद का हाथ      ||      असम में आए भूकंप पर प्रियंका गांधी ने कहा- असम के लोगों के लिए मेरा प्यार और प्रार्थनाएं      ||      PM CARES से DRDO खड़े करेगा 500 ऑक्सीजन प्लांट      ||     

अमेरिका की राह पर नही चलेगा भारत, दोनों डोज लेने के बाद भी लगाना होगा मास्क, जानिए वजह

Shikha Awasthi 15-05-2021 14:31:47 21 Total visiter


नई दिल्ली। हालही में अमेरिका के ‘सेंट्रल फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रीवेंशन’ (CDC)  ने बयान जारी करते हुए कहा था कि वैक्सीन की दोनों डोज लेने वाले लोगों को मास्क पहनने की जरूरत नही है। सीडीसी के इस बयान पर एम्स के निदेशक डॉ रणदीप गुलेरिया ने अपनी प्रतिक्रिया देते हुए है कि भारत अभी अमेरिका की राह पर नही चलेगा उन्होंने कहा भारत के लिए ऐसा करना जल्दबाजी होगी। उन्होंने कहा कि भारत में वैक्सीन लगवाने के बाद भी मास्क पहनना और सोशल डिस्टेंसिंग के नियम का पालन करना जरूरी है। गुलेरिया ने कहा कि वायरस लगातार म्यूटेट हो रहा है और अभी भी इस बात को लेकर अनिश्चितता है कि वैक्सीन बदलते वेरिएंट से लोगों की कितनी सुरक्षा कर सकती है। 

बिना मास्क के नजर आए राष्ट्रपति बाइडेन

दरअसल, गुरुवार को सीडीसी के बयान के बाद अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडेन और उपराष्ट्रपति कमला हैरिस व्हाइट हाउस के रोज गार्डन में पत्रकारों के सामने बिना मास्क पहने पहुंचे थे। बाइडेन ने इस दौरान कहा था कि मुझे लगता है कि यह बड़ी कामयाबी है। बहुत बड़ा दिन है। ज्यादा से ज्यादा अमेरिकियों को जल्द से जल्द वैक्सीन लगाने की हमारी सफलता से यह संभव हुआ है। सीडीसी के नए दिशानिर्देशों का जिक्र करते हुए बाइडेन ने कहा कि वैक्सीन की दोनों डोज ले चुके लोगों के कोविड-19 से संक्रमित होने का खतरा बहुत ही कम है।

पता नही कितनी असरदार है वैक्सीन: गुलेरिया

वहीं गुलेरिया ने कहा कि, भारत में इस तरह की घोषणा करना अभी बहुत जल्दबाजी होगा। मुझे लगता है कि तब तक सतर्क रहने की जरूरत है जब तक हमारे पास इससे संबंधित और ज्यादा डेटा उपलब्ध नहीं हो जाते। गुलेरिया ने कहा कि यह वायरस म्यूटेट होता रहता है, इसलिए हम फिलहाल यह नहीं कह सकते कि कोरोना की वैक्सीन इस वायरस पर कितनी असरदार होगी।

गुलेरिया ने आगे कहा, मास्क पहनना और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना बेहतर है क्योंकि इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि वायरस का वेरिएंट कौन सा है, मास्क और सोशल डिस्टेंसिंग आपकी वायरस के हर वेरिएंट से रक्षा करेगा।

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :