इमेज टुडे - ज़िन्दगी में भर दे रंग - समाचारों का द्विभाषीय पोर्टल

देशभर में 18 साल से ऊपर के लोगों को वैक्सीनेशन के लिए आज से शुरू हो रहा रजिस्ट्रेशन      ||      लखनऊ: मेदांता अस्पताल में मरीजों की मदद के लिए प्रियंका गांधी ने भेजा ऑक्सीजन का टैंकर      ||      भारत में कोरोना की बिगड़ती स्थिति पर संयुक्त राष्ट्र संघ ने बढ़ाया मदद का हाथ      ||      असम में आए भूकंप पर प्रियंका गांधी ने कहा- असम के लोगों के लिए मेरा प्यार और प्रार्थनाएं      ||      PM CARES से DRDO खड़े करेगा 500 ऑक्सीजन प्लांट      ||     

Duniya Tere Rang Nirale:ऐसा रंग-बिरंगा गांव जहां जाने को जी चाहे

pooja 15-05-2021 19:13:29 22 Total visiter


गांव के बारे में सोचते ही दिमाग में धूल-मिट्टी, खेत, छोटे-छोटे घर और तमाम गंदगी आ जाती है। ऐसे में अगर आपसे कोई कहे कि दुनिया में एक ऐसा भी गांव है जहां ना तो धूल मिलेगी और ना ही गंदगी। बल्कि वह गांव तो बहुत ही संदर और अनोखा है। तो क्या आप मानेंगे? आज हम आपको एक ऐसे गांव के बारे में बताने जा रहे हैं जो दुनियाभर में अपनी अलग पहचान बना चुका है।

यह गांव शहरों को भी मात देता आ रहा है। वह अपने रंग-बिरंगे कलर्स की वजह से पूरी दुनिया में प्रसिद्ध है। यह गांव इंडोनेशिया में है। जिसका नाम है काम्पुंग पेलंगी है।  यह गांव कभी दिखने में मलिन बस्ती की तरह लगता था, लेकिन आज यह ‘इंद्रधनुषी गांव’ के रूप में जाना जाता है। अपनी रंग बिरंगी छटा को समेटे दुनिया में ‘इंद्रधनुषी गांव’ के नाम से चर्चित इंडोनेशिया का यह गांव सोशल मीडिया पर  बहुत चर्चित है। रंगों के संयोजन से इस गांव को नया रूप दिया गया है। जो पर्यटकों का ध्यान अपनी तरफ आकर्षित करता है। 

यह छोटा सा गांव इंडोनेशिया के जावा द्वीप पर बसा हुआ है। इस गांव में 390 घर हैं जिनको अलग-अलग रंगों में रंग दिया गया है। घरों के अलावा गलियों और उनकी दीवारों में भी रंग भर दिया गया है। इस गांव को देखने पर ऐसा महसूस होता है कि आकाश के इंद्रधनुष को निहार रहे हैं। यह गांव पहाड़ों के बीच नदी के किनारे बसा है। पहले यह गांव इंडोनेशिया का स्लम एरिया था। यहां पिछड़े लोग अपने टूटे फूटे घरों में रहते थे। लेकिन एक स्कूल के प्रिंसिपल ने इस गांव को बदलने के बीड़ा उठाया। 54 साल के स्लामेट विडोडो ने अपने इस गांव को बदलने का प्रस्ताव तैयार किया और स्थानीय सरकार से मिले सेन्ट्रल जावा कम्यूनिटी ने उनके प्रस्ताव को मंजूर कर लिया और इस पर तेजी से काम शुरू हो गया। इस गांव का कायाकल्प करने में करीब 16 लाख रुपए खर्च हुए हैं। घरों और गलियों की रंगाई के बाद इस गांव की सूरत ही बदल गई। पूरा गांव ऐसे लगता है जैसे किसी चित्र प्रदर्शनी में आ गए हैं। इस गांव को देखने के लिए पर्यटकों की भारी भीड़ जुटी रहती हैं।

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :