इमेज टुडे - ज़िन्दगी में भर दे रंग - समाचारों का द्विभाषीय पोर्टल

देशभर में 18 साल से ऊपर के लोगों को वैक्सीनेशन के लिए आज से शुरू हो रहा रजिस्ट्रेशन      ||      लखनऊ: मेदांता अस्पताल में मरीजों की मदद के लिए प्रियंका गांधी ने भेजा ऑक्सीजन का टैंकर      ||      भारत में कोरोना की बिगड़ती स्थिति पर संयुक्त राष्ट्र संघ ने बढ़ाया मदद का हाथ      ||      असम में आए भूकंप पर प्रियंका गांधी ने कहा- असम के लोगों के लिए मेरा प्यार और प्रार्थनाएं      ||      PM CARES से DRDO खड़े करेगा 500 ऑक्सीजन प्लांट      ||     

योगी पर भड़के शिवपाल, कहा- गरीबों के लिए 1,000 रुपए का भत्ता काफी नही

pooja 16-05-2021 15:54:38 25 Total visiter


लखनऊ: कोरोना के बढ़ते मामलो के बीच सरकार द्वारा प्रभावी कदम उठाते हुए, प्रदेश में लॉकडाउन लगाया गया है. जिससे प्रभावित हो रहे दिहाड़ी मजदूरों और गरीबो को सरकार ने 1,000 रुपए का भत्ता देंवे को कहा था. जिसपर समाजवादी पार्टी के अध्‍यक्ष शिवपाल सिंह यादव ने रविवार को एक बयान जारी करते हुए योगी सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि कोविड आपदा को ध्यान में रखकर रेहड़ी-पटरी, खोखा-खोमचा लगाने वाले और दिहाड़ी मजदूरों के लिए घोषित एक माह के लिए 1,000 रुपए का भत्ता कम बताया है. उन्होंने इस रकम को बढ़ाकर सरकार से प्रति माह 3,000 रुपये दिये जाने की मांग की है. 

शिवपाल यादव ने कहा है कि लॉकडाउन से उपजी विपरीत परिस्थितियों में रोजाना कमाई कर परिवार का भरण पोषण करने वाले रेहड़ी-पटरी, ठेला, खोमचा, खोखा लगाने वाले पटरी दुकानदारों, दिहाड़ी मजदूरों, रिक्शा/ई-रिक्शा चालक, पल्लेदार सहित नाविकों, नाई, धोबी, मोची, हलवाई आदि जैसे परम्परागत कामगारों के सामने भी रोजी-रोटी का भयानक संकट आ खड़ा हुआ है. ऐसे में उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा एक माह के लिए प्रदान किया जाने वाला 1,000 रुपए का भरण-पोषण भत्ता अत्याधिक कम है. 

समावेशी और लोककल्याणकारी आर्थिक पैकेज की घोषणा 

आगे उन्होंने ये भी कहा कि आपदा से छोटे और मध्यम व्यवसायी बुरी तरह से प्रभावित हैं. उन्होंने कहा कि मेरा यह भी आग्रह है कि राज्य व केंद्र सरकार इनकी परेशानियों को ध्यान में रखकर एक समावेशी और लोककल्याणकारी आर्थिक पैकेज की भी घोषणा करे. बता दें कि यूपी सरकार ने शनिवार को कैबिनेट बैठक के दौरान एक बड़ा फैसला लेते हुए फुटकर दुकानदार, रेहड़ी- पटरी वालों को एक हजार रुपये महीना भत्ता और 3 महीने का राशन देने का फैसला लिया था.
 

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :