इमेज टुडे - ज़िन्दगी में भर दे रंग - समाचारों का द्विभाषीय पोर्टल

देशभर में 18 साल से ऊपर के लोगों को वैक्सीनेशन के लिए आज से शुरू हो रहा रजिस्ट्रेशन      ||      लखनऊ: मेदांता अस्पताल में मरीजों की मदद के लिए प्रियंका गांधी ने भेजा ऑक्सीजन का टैंकर      ||      भारत में कोरोना की बिगड़ती स्थिति पर संयुक्त राष्ट्र संघ ने बढ़ाया मदद का हाथ      ||      असम में आए भूकंप पर प्रियंका गांधी ने कहा- असम के लोगों के लिए मेरा प्यार और प्रार्थनाएं      ||      PM CARES से DRDO खड़े करेगा 500 ऑक्सीजन प्लांट      ||     

पीएम मोदी के मीटिंग पर सियासत शुरू, 'आप' ने उठाए सवाल

Shikha Awasthi 18-05-2021 14:07:04 18 Total visiter


नई दिल्ली। देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार (18 मई) को देश के सभी फील्ड अफसरों से वर्चुअल मीटिंग करते हुए संवाद किया। इस मीटिंग में पीएम मोदी ने सभी फील्ड अफसरों को मैसेज भी दिया। मोदी का ये मैसेज टेलीविजन पर ब्रॉडकास्ट किया गया। इस ब्रॉडकास्टिंग को लेकर अब राजनीति शुरू हो गई है। दिल्ली के उप-मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने सवाल उठाया कि पिछली बैठक में दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल की स्पीच के लाइव टेलीकास्ट पर दिक्कत हो गई थी। इस बार प्रधानमंत्री के ब्रॉडकास्ट की इजाजत थी?

सिसोदिया ने पीएम की मीटिंग के तुरंत बाद ट्वीट किया कि, आज की मीटिंग में प्रधानमंत्रीजी का वक्तव्य टीवी पर लाइव प्रसारित हुआ। पिछली बैठक में केजरीवालजी के लाइव प्रसारण पर आपत्ति थी। कहा गया था कि प्रोटोकॉल तोड़ा गया है। आज के प्रोटोकॉल में लाइव ब्रॉडकास्ट की इजाजत थी? कैसे पता चलेगा कि कौन सी मीटिंग का लाइव टेलीकास्ट हो सकता है और किस मीटिंग का नहीं?

बता दें कि 23 अप्रैल को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मुख्यमंत्रियों के साथ कोरोना के बिगड़ते हालात को लेकर मीटिंग की थी। इस मीटिंग में 10 राज्यों के मुख्यमंत्री शामिल थे। मीटिंग में जैसे ही दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के बोलने की बारी आई तो मीटिंग का लाइव टेलीकास्ट देश के टीवी चैनलों पर चलने लगा। जिसको लेकर बाद में खूब राजनीति हुई थी।

केजरीवाल ने पीएम से सख्ती से पूछता था सवाल

मीटिंग में केजरीवाल ने ऑक्सीजन सप्लाई को लेकर पीएम से तीखे शब्दों में पूछा था कि प्रधानमंत्री जी अगर दिल्ली में ऑक्सीजन की फैक्ट्री नहीं है तो क्या दो करोड़ लोगों को ऑक्सीजन नहीं मिलेगी? अगर किसी अस्पताल में एक-दो घंटे की ऑक्सीजन बच जाए या ऑक्सीजन रुक जाए और लोगों की मौत की नौबत आ जाए तो मैं फोन उठाकर किससे बात करूं? कोई ट्रक रोक ले तो किससे बात करूं? आप बस ये बता दीजिए। हालांकि, कुछ देर बाद ये प्रसारण अचानक सभी टेलीविजन चैनलों पर रुक गया और इसके बाद फिर केजरीवाल नजर आए। प्रधानमंत्री से कह रहे थे कि मेरा विश्वास है कि इस देश में अगर एक नेशनल प्लान होगा तो हम सभी राज्य सरकारें केंद्र के साथ मिलकर काम करेंगे।

जिसके बाद प्रधानमंत्री ने केजरीवाल को बीच में ही रोकते हुए कहा था कि, ये हमारी जो परंपरा है, हमारे जो प्रोटोकॉल हैं, उसके खिलाफ हो रहा है कि कोई मुख्यमंत्री ऐसी इनहाउस मीटिंग को लाइव टेलीकास्ट करे। ये उचित नहीं है, हमें हमेशा संयम पालन करना चाहिए।

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :