इमेज टुडे - ज़िन्दगी में भर दे रंग - समाचारों का द्विभाषीय पोर्टल

कोरोनाः ICSE बोर्ड ने रद्द की 10वीं की परीक्षा, 12वीं की परीक्षा होगी ऑफलाइन      ||      अमेरिकी डॉलर के मुकाबले 23 पैसे मजबूत हुआ रुपया      ||      CEC सुशील चंद्र और चुनाव आयुक्त राजीव कुमार कोरोना पॉजिटिव      ||      कोरोनाः हाईकोर्ट की फटकार के बाद एक्टिव हुई तेलंगाना सरकार, 30 अप्रैल तक नाइट कर्फ्यू      ||      कोरोनाः यूपी में वीकेंड कर्फ्यू, 500 से अधिक एक्टिव केस वाले जिलों में लगेगा नाइट कर्फ्यू      ||      यूपीः हमीरपुर जेल के डिप्टी जेलर की कोरोना से मौत, सीओ और कई डॉक्टर संक्रमित      ||      दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल की पत्नी कोरोना पॉजिटिव      ||     

मशहूर संगीतकार और बांसुरी वादक प्रभात शर्मा का निधन, कई प्रतिष्ठित हस्तियों ने अर्पित की पुष्पांजलि

Shikha Awasthi 03-03-2021 18:16:19 30 Total visiter


असम के मशहूर संगीतकार और बांसुरी वादक प्रभात शर्मा 85 वर्ष की आयु में दुनिया को अलविदा कह गए। पारिवारिक सूत्रों के अनुसार 2 मार्च यानी आज मंगलवार को उन्होंने गुवाहाटी में अंतिम सांस ली। उनकी बेटी ताराली शर्मा ने बताया कि वे सुबह 4:30 बजे उठे थे। फिर उन्होंने अपनी पत्नी से बात भी की थी। इसके बाद वे दोबारा जाकर सो गए थे। सुबह अंटी 6 बजे उठाने आई थीं वो रोने लगीं। वो दुनिया से जा चुके थे। उन्होंने गुवाहाटी के अंबिकागिरी नगर स्थित घर में दम तोड़ा। बता दें कि बेटी ताराली खुद भी एक राष्ट्रीय पुरस्कार विजेता गायिका हैं।

प्रभात शर्मा के जाने के बाद परिवार में उनकी पत्नी, तीन बेटियां और कुछ बच्चे रह गए हैं। उनके निधन से सभी तरफ शोक का माहौल है। असम के मुख्यमंत्री सर्वानंद सोनोवाल ने दुख व्यक्त किया है। उन्होंने कहा कि प्रभात जी का जाना राज्य के सांस्कृतिक क्षेत्र के लिए एक अपूरणीय क्षति है। राजनीतिक दलों और कई संगठनों ने भी प्रमुख संगीतकार के निधन पर शोक व्यक्त किया है।

 

যশস্বী সংগীতজ্ঞ, বাঁহীবাদক প্ৰভাত শৰ্মাদেৱৰ বিয়োগত মৰ্মাহত হৈছোঁ। অসমৰ সংগীতৰ চহকী যাত্ৰাত তেখেতে যি অনবদ্য অৱদান আগবঢ়াই গৈছে, সেয়া স্মৰণীয় হৈ ৰ'ব।

এই শোকৰ মুহূৰ্তত শৰ্মাদেৱৰ পৰিয়ালবৰ্গ আৰু গুণমুগ্ধলৈ গভীৰ সমবেদনা জনালোঁ আৰু তেখেতৰ আত্মাৰ চিৰশান্তি কামনা কৰিলোঁ।

ঔঁ শান্তি pic.twitter.com/QlSPkCkUUa

— Sarbananda Sonowal (@sarbanandsonwal) March 2, 2021

 

कई सम्मानों से नवाजे जा चुके संगीतकार को 2003 में असम के लोक और पारंपरिक संगीत में उनके योगदान के लिए संगीत नाटक अकादमी पुरस्कार दिया गया था। उनके पास संगीत वाद्ययंत्रों का एक संग्रह था, जिनमें से कुछ अब आसानी से उपलब्ध भी नहीं हैं।

उन्होंने एक छोटे एक संग्रहालय का निर्माण किया था। बाद में वह जरूरत पड़ने पर इनका उपयोग करते रहते थे। वह एक टीवी निर्देशक के रूप में भी कई फिल्मों से जुड़े थे। इसके अलावा उन्होंने कई टीवी धारावाहिकों और मंच नाटकों की भी रचना कर डाली। असम में शास्त्रीय सत्तारिया नृत्य के शोध में भी वे लगे रहे थे। इसकी रचना श्रीमंत शंकरदेव ने की थी। उनके निधन के बाद गुरु जतिन गोस्वामी, लोक गायक लोकनाथ गोस्वामी और गीतकार प्रशांत बोरदोलोई सहित कई प्रतिष्ठित हस्तियों ने शर्मा के घर का दौरा किया और पुष्पांजलि अर्पित की।

 

 

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :