इमेज टुडे - ज़िन्दगी में भर दे रंग - समाचारों का द्विभाषीय पोर्टल

देशभर में 18 साल से ऊपर के लोगों को वैक्सीनेशन के लिए आज से शुरू हो रहा रजिस्ट्रेशन      ||      लखनऊ: मेदांता अस्पताल में मरीजों की मदद के लिए प्रियंका गांधी ने भेजा ऑक्सीजन का टैंकर      ||      भारत में कोरोना की बिगड़ती स्थिति पर संयुक्त राष्ट्र संघ ने बढ़ाया मदद का हाथ      ||      असम में आए भूकंप पर प्रियंका गांधी ने कहा- असम के लोगों के लिए मेरा प्यार और प्रार्थनाएं      ||      PM CARES से DRDO खड़े करेगा 500 ऑक्सीजन प्लांट      ||     

26वीं बार एवरेस्ट फतह करने जा रहा था पर्वतारोही, ऐसा क्या हुआ की आगे चढ़ने से किया इंकार

pooja 25-05-2021 16:55:21 15 Total visiter


काठमांडू। 25 बार माउंट एवरेस्ट पर चढ़ने का कीर्तिमान अपने नाम करने वाले शेरपा कामी रीता ने 26वीं बार एवरेस्ट पर चढ़ने से इंकार कर दिया। कामी रीता ने महज एक बुरे सपने की वजह से 26वीं बार एवरेस्ट चढ़ने की योजना को रद्द कर दिया। अब वह अगले साल एवरेस्ट फतह करने का प्रयास करेंगे। 

आधे रास्ते से वापस लौटे

कामी रीता ने 25वीं बार एवरेस्ट पर चढ़ने का कीर्तिमान इस महीने बनाया था। इसके बाद 26वीं कोशिश में वह आधे से अधिक ऊंचाई पर चढ़ चुके थे, लेकिन इसके बाद उन्होंने चढ़ाई अभियान रद्द कर दिया। हेलीकॉप्टर के जरिए मंगलवार को काठमांडू लौटकर रीता ने कहा, 'मैं (26वीं बार) प्रयास कर रहा था और कैंप तीन तक पहुंच चुका था। लेकिन मौसम खराब हो गया और मैंने एक बहुत बुरा सपना देखा।' उन्होंने कहा, 'भगवान मुझे आगे नहीं जाने के लिए कह रहे थे और क्योंकि मैं भगवान में विश्वास रखता हूं, इसलिए मैंने वापस लौटने का निर्णय लिया।' काठमांडू एयरपोर्ट पर उनकी पत्नी, कुछ दोस्त और सरकारी अधिकारी उनके स्वागत के लिए पहुंचे थे। मगर लॉकडाउन की वजह से कोई जश्न नहीं मनाया गया।

एवरेस्ट को देवी के रूप में पूजते हैं शेरपा 

नेपाल और हिमालय की ऊंची चोटियों में रहने वाले शेरपा समुदाय के लोग पर्वतों को देवी का रूप मानते हैं। उस पर चढ़ने से पहले शेरपा धार्मिक रीति रिवाज का पालन भी करते हैं। कामी रीता ने यह नहीं बताया कि उन्होंने सपने में क्या देखा था। लेकिन रीता ने कहा कि वह 26वीं बार एवरेस्ट पर चढ़ने का प्रयास अगले साल जरूर करेंगे। वह 51 साल के हैं और 1994 में उन्होंने पहली बार एवरेस्ट पर चढ़ाई की थी। तब से वह लगभग हर साल विश्व की सबसे ऊंची पर्वत चोटी पर चढ़ते रहे हैं।

बता दें कि शेरपा कामी रीता इसी महीने 11 अन्य शेरपाओं के साथ 7 मई को एवरेस्ट पर पहुंचे थे और रस्सियों को अच्छे से बांधा था ताकि बर्फीले खतरनाक रास्ते पर अन्य पर्वतारोही आराम से चढ़ सकें।

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :