इमेज टुडे - ज़िन्दगी में भर दे रंग - समाचारों का द्विभाषीय पोर्टल

देशभर में 18 साल से ऊपर के लोगों को वैक्सीनेशन के लिए आज से शुरू हो रहा रजिस्ट्रेशन      ||      लखनऊ: मेदांता अस्पताल में मरीजों की मदद के लिए प्रियंका गांधी ने भेजा ऑक्सीजन का टैंकर      ||      भारत में कोरोना की बिगड़ती स्थिति पर संयुक्त राष्ट्र संघ ने बढ़ाया मदद का हाथ      ||      असम में आए भूकंप पर प्रियंका गांधी ने कहा- असम के लोगों के लिए मेरा प्यार और प्रार्थनाएं      ||      PM CARES से DRDO खड़े करेगा 500 ऑक्सीजन प्लांट      ||     

AAP ने केद्र पर लगाए आरोप- कहा- सात लाख छात्रों को नहीं मिलीं किताबें, बच्चे कैसे करें पढ़ाई?

pooja 26-05-2021 17:07:42 11 Total visiter


नई दिल्ली: भाजपा शासित नगर निगम के अधीनस्थ स्कूलों में बच्चों को किताबें ना मिलने पर आम आदमी पार्टी ने सरकार पर सवाल खड़े कर दिये है. आम आदमी पार्टी के वरिष्ठ नेता व एमसीडी प्रभारी दुर्गेश पाठक ने भाजपा पर यह आरोप लगाया है कि एमसीडी के स्कूलों में पढ़ने वाले 7 लाख छात्रों को किताबें नहीं दी गई है. जिसके कारण बच्चो का भविष्य खराब हो रहा है. दुर्गेश पाठक ने कहा कि कोरोना काल में पढ़ाई की स्थिति पहले ही खराब रही है. ऊपर से भाजपा की एमसीडी बच्चों को किताबें मुहैया नहीं कर रही है.

भाजपा पिछले 5 सालों से किताबें मुहैया करने में महीनों का वक्त लेती रही है. आम आदमी पार्टी (AAP) ने भाजपा से किताबें खरीदने की प्रक्रिया को अगले 15 से 20 दिनों के अंदर पूरा करने की मांग की है. दुर्गेश पाठक ने कहा कि भाजपा पहले ही छात्रों के कई सत्र खराब कर चुकी है अभी भी आपके पास मौका है कि बच्चों का भविष्य खराब न हो. पाठक ने कहा कि ऐसे तो कोरोना काल में हर वर्ग प्रभावित हुआ है लेकिन जो सबसे ज्यादा प्रभावित हुआ है वह बच्चों की पढ़ाई है. बच्चों की पढ़ाई के लिए पिछले एक-डेढ़ साल से ऑनलाइन क्लासेज चल रही हैं. सरकारें कोशिश कर रही हैं कि किसी भी तरह से बच्चों का भविष्य न खराब हो. लेकिन दुर्भाग्य है कि, आप सभी को पता होगा कि दिल्ली में एमसीडी के 1625 स्कूल हैं जिसमें लगभग 7 लाख बच्चे पढ़ते हैं, इन 7 लाख बच्चों का भविष्य अंधकार में है क्योंकि पढ़ाई का स्तर खराब है. ऑनलाइन पढ़ाई होने के बावजूद स्थिति खराब हो गई है.

2020 के सत्र में 9 महीनों बाद बच्चों को मिली किताबें

बता दें कि उन्होंने कहा कि 2020 के सत्र में 9 महीनों बाद बच्चों को किताबें मिली. ये किताबें अप्रैल में मिलनी चाहिए थीं लेकिन दिसंबर-जनवरी में जाकर मिलीं. इसी प्रकार से 2019 में लगभग 8 महीने की देरी के साथ किताबें मिली. खासकर नॉर्थ एमसीडी का तो बहुत बुरा हाल है. पिछले 5 सालों से, बच्चे स्कूल में हों या ऑनलाइन क्लास में हों लेकिन उनके पास किताबें नहीं होती हैं. ऐसे 7 लाख बच्चों का भविष्य आज अंधकार में हैं.

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :