इमेज टुडे - ज़िन्दगी में भर दे रंग - समाचारों का द्विभाषीय पोर्टल

देशभर में 18 साल से ऊपर के लोगों को वैक्सीनेशन के लिए आज से शुरू हो रहा रजिस्ट्रेशन      ||      लखनऊ: मेदांता अस्पताल में मरीजों की मदद के लिए प्रियंका गांधी ने भेजा ऑक्सीजन का टैंकर      ||      भारत में कोरोना की बिगड़ती स्थिति पर संयुक्त राष्ट्र संघ ने बढ़ाया मदद का हाथ      ||      असम में आए भूकंप पर प्रियंका गांधी ने कहा- असम के लोगों के लिए मेरा प्यार और प्रार्थनाएं      ||      PM CARES से DRDO खड़े करेगा 500 ऑक्सीजन प्लांट      ||     

सीएम केजरीवाल पर लगा तिरंगे के अपमान का आरोप, केंद्रीय मंत्री ने पत्र लिखकर LG से की शिकायत

Shikha Awasthi 28-05-2021 13:32:14 11 Total visiter


नई दिल्ली। कोविड-19 मेनेजमेंट और वैक्सीन की आपूर्ति को लेकर केंद्र सरकार और दिल्ली की अरविंद केजरीवाल सरकार के बीच तनातनी लगातार बरकरार है। इसी बीच दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल पर तिरंगे के अपमाना का आरोप लगा है। केजरीवाल पर यह आरोप केंद्रीय संस्कृति और पर्यटन मंत्री प्रहलाद पटेल ने लगाया है। पटेल ने दिल्ली के उपराज्यपाल अनिल बैजल और अरविंद केजरीवाल को पत्र लिखते हुए यह आरोप लगाए हैं। प्रहलाद पटेल ने केजरीवाल के प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान राष्ट्रीय ध्वज तिरंगा के गलत तरीके से लगाने का आरोप लगाया है। 

केंद्रीय मंत्री ने पत्र में लिखा 

प्रह्लाद पटेल ने पत्र में कहा कि 'मैं यह पत्र राष्ट्रीय ध्वज के सम्मान की हम सबकी जिम्मेवारी के उत्तरदायित्व को ध्यान में रखकर लिख रहा हूं। अनेक दिनों से जब टीवी चैनल पर आपको संबोधित करते हुए देखता हूं तो आपके कुर्सी के पीछे लगे राष्ट्रीय ध्वज के स्वरूप पर बेबस ही ध्यान चला जाता है। क्योंकि वह मुझे अपनी गरिमा एवं संवैधानिक स्वरूप से भिन्न प्रतीत होता है। बीच में सफेद हिस्से को कम करके हरे हिस्से को जोड़ दिया गया लगता है जो भारत सरकार गृह मंत्रालय के द्वारा निर्दिष्ट भारतीय झंडा संहित में उल्लिखित भाग 1 के 1.3 में दिए गए मानकों का प्रयोग नहीं दिखायी देता है।' उन्होंने आगे कहा, 'जिस प्रकार से ध्वज लगाए गए हैं उनसे ऐसा प्रतीत होता है कि राष्ट्रीय ध्वज को समुचित सम्मान देने के स्थान पर सजावट के लिए प्रयोग हुआ दिखायी पड़ता है। 

क्या है राष्ट्रीय ध्वज संहिता 1971 

राष्ट्रीय ध्वज संहिता भारतीय संविधान में तिरंगे के रख-रखाव को लेकर एक नियमावली है। इसे 1971 में संविधान में जोड़ा गया था इसलिए इसी राष्ट्रीय ध्वज संहिता 1971 कहतें हैं। इसके तहत धारा 2 (ix) जिसके अनुसार झंडे का प्रयोग वक्ता के मंच को सजाने के लिए नहीं किया जाएगा। धारा 2.2 (i) झंडे की स्थिति सम्मानपूर्वक और विशिष्ट होनी चाहिए। (ix) के अनुसार किसी अन्य प्रकार की सजावट के लिए झंडे का इस्तेमाल नहीं किया जाएगा।' 

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :