इमेज टुडे - ज़िन्दगी में भर दे रंग - समाचारों का द्विभाषीय पोर्टल

देशभर में 18 साल से ऊपर के लोगों को वैक्सीनेशन के लिए आज से शुरू हो रहा रजिस्ट्रेशन      ||      लखनऊ: मेदांता अस्पताल में मरीजों की मदद के लिए प्रियंका गांधी ने भेजा ऑक्सीजन का टैंकर      ||      भारत में कोरोना की बिगड़ती स्थिति पर संयुक्त राष्ट्र संघ ने बढ़ाया मदद का हाथ      ||      असम में आए भूकंप पर प्रियंका गांधी ने कहा- असम के लोगों के लिए मेरा प्यार और प्रार्थनाएं      ||      PM CARES से DRDO खड़े करेगा 500 ऑक्सीजन प्लांट      ||     

संभल के सपा सांसद का विवादित बयान, कहा- BJP करवा रही है लड़कियों का बलात्कार

Shikha Awasthi 03-06-2021 16:20:26 9 Total visiter


संभल। उत्तर प्रदेश में कोरोना महामारी के बीच बीमारी पर राजनीति के साथ विवादित बयान देने का सिलसिला जारी है। मुरादाबाद में समाजवादी पार्टी के सांसद एसटी हसन के विवादित बयान के बाद अब संभल में से सपा सांसद शफीकुर्रहमान बर्क का विवादित बयान सामने आया है। संभल से सपा सांसद डॉ. शफीकुर्रहमान बर्क ने कहा है कोरोना कोई बीमारी है ही नहीं। कोरोना अगर बीमारी होती तो दुनिया में इसका इलाज होता। यह बीमारी सरकार की गलतियों की वजह से अजादे इलाही है, जो की अल्लाह के सामने रोकर गिड़गिड़ाकर माफी मांगने से ही खत्म होगी।

सपा सांसद ने बीजेपी सरकार पर गंभीर आरोप लगाते हुए कहा कि मौजूदा सरकार ने शरीयत से ही छेड़छाड़ नहीं की है बल्कि अपनी सरकार में लड़कियों को पकड़वाकर बलात्कार करवाने, मॉब लिंचिंग और तमाम जुल्म ज्यादतियां की हैं, जिसकी वजह से कोरोना जैसी आसमानी आफ़त सामने है।

मुरादाबाद के सांसद ने दिया था विवादित बयान

गौरतलब है कि मुरादाबाद में एसपी सांसद एसटी हसन ने हाल ही में कहा था कि बीजेपी सरकार ने अपने 7 साल के कार्यकाल में शरीयत से इतनी छेड़छाड़ की है। जिसकी वजह से कोरोना बीमारी और आंधी-तूफ़ान जैसे तमाम आसमानी आफ़तें सामने आ रही हैं।

वैक्सीन लगवाने से कोई गुरेज नही: शफीकुर्रहमान 

उन्होंने कहा कि हमने मुस्लिमों के लिए मस्जिदों और ईदगाहों में नमाज पढ़ने और दुआ करने के लिए सरकार से मांग भी की थी लेकिन सरकार ने हमारी मांग नहीं मानी। इन गलतियों की वजह से आज तमाम आसमानी आफ़तें सामने हैं। उन्होंने आगे कहा कि सरकार और सरकार की गलत पॉलिसियों की वजह से आज तमाम आसमानी आफतें आ रही हैं। वैक्सीन के विरोध को लेकर कहा कि वह और तमाम उलेमा और मौलवी पहले ही फतवा देकर वैक्सीन के टेस्ट को लेकर सवाल उठा चुके हैं। अगर वैक्सीन टैस्टिड है तो लगवाने में कोई गुरेज नहीं है।

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :