इमेज टुडे - ज़िन्दगी में भर दे रंग - समाचारों का द्विभाषीय पोर्टल

दिल्लीः हरिद्वार कुंभ से लौटे श्रद्धालुओं को रहना होगा 14 दिन क्वारनटीन, DDMA का आदेश      ||      MP: शहडोल-मेडिकल कॉलेज में ऑक्सीजन की कमी के चलते 6 मरीजों की मौत      ||      UP: कोरोना के चलते इस साल अयोध्या में नहीं लगेगा रामनवमी का उत्सव मेला      ||      कोरोना: भारत में पिछले 24 घंटों में कोरोना के 2,61,500 नए मामले, 1501 मरीजों की मौत      ||      कोरोना: JEE (Mains) का अप्रैल सेशन स्थगित, परीक्षा से 15 दिन पहले जारी होगी नई तारीख- NTA      ||     

संयुक्त कमांडर सम्मेलन के अंतिम सत्र को पीएम मोदी ने किया संबोधत, कही ये बड़ी बात

06-03-2021 22:27:42 105 Total visiter


नयी दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने शनिवार को कहा, हर क्षेत्र में प्रौद्योगिकी के बढते इस्तेमाल को देखते हुए सशस्त्र सेनाओं को अत्याधुनिक प्रौद्योगिकी से लैस करने की जरूरत है जिससे कि ये ‘भविष्य की सेना’ के रूप में चुनौतियों का मजबूती से सामना कर सके। पीएम मोदी ने शनिवार को गुजरात के केवड़िया में तीनों सेनाओं के संयुक्त कमांडर सम्मेलन के तीसरे और अंतिम दिन समापन सत्र को संबोधित करते हुए यह बात कही। 

प्रधानमंत्री मोदी ने राष्ट्रीय सुरक्षा तंत्र में स्वदेशीकरण को बढ़ावा देने के महत्व पर बल देते हुए कहा कि यह केवल उपकरणों तथा हथियारों के मामले में ही नहीं होना चाहिए बल्कि इसकी झलक सशस्त्र सेनाओं से संबंधित सिद्धांतों , प्रक्रियाओं और परंपराओं में भी दिखायी देनी चाहिए। राष्ट्रीय सुरक्षा तंत्र के सैन्य और असैन्य दोनों हिस्सों में जनशक्ति के अधिक से अधिक नियोजन की जरूरत पर बल देते हुए उन्होंने एक समग्र दृष्टिकोण पर आधारित तेजी से निर्णय लेने की व्यवस्था बनाने पर जोर दिया। 

प्रधानमंत्री ने पिछले वर्ष कोरोना महामारी से निपटने के अभियान में योगदान तथा उत्तरी सीमा पर चुनौतीपूर्ण स्थिति से मजबूती से निपटने में सशस्त्र सेनाओं की भूमिका की सराहना की। इससे पहले प्रमुख रक्षा अध्यक्ष जनरल बिपिन रावत ने इस वर्ष के सम्मेलन के एजेन्डे से प्रधानमंत्री को अवगत कराया। प्रधानमंत्री ने सम्मेलन में पहली बार कनिष्ठ कमीशन अधिकारियों और गैर कमीशन अधिकारियों को भी शामिल करने पर भी प्रसन्नता व्यक्त की। 

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :