इमेज टुडे - ज़िन्दगी में भर दे रंग - समाचारों का द्विभाषीय पोर्टल

सीताराम येचुरी का केंद्र पर हमला, कहा- प्राइवेट है पीएम केयर फंड      ||      दिल्ली सरकार के मंत्री कैलाश गहलोत कोरोना पॉजिटिव, ट्वीट कर दी जानकारी      ||      जम्मू कश्मीर के कुलगाम में जैश-ए-मोहम्मद के दो आतंकी गिरफ्तार      ||      यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ कोरोना पॉजिटिव, ट्वीट कर दी जानकारी      ||      यूपीः CM योगी और अखिलेश यादव को कोरोना, प्रियंका गांधी का ट्वीट- आप सुरक्षित रहें      ||     

कृषि कानून को लेकर अखिलेश यादव ने सरकार पर साधा निशाना, कहा - नए कृषि कानून किसानों को बर्बाद कर देंगे

Shikha Awasthi 13-03-2021 16:36:31 33 Total visiter


कासगंज। कृषि कानून को लेकर सभी विपक्षी पार्टियां सरकार पर निशाना साध रही हैं। और किसान भी इस कानून को वापस लेने के लिए सरकार के खिलाफ आंदोलन कर रहे हैं। वहीं इस बीच समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने भी नए कृषि कानूनों को लेकर केंद्र और यूपी सरकार पर निशाना साधा है। उन्होंने कहा कि नए कृषि कानून किसानों को बर्बाद कर देंगे। किसानों की मांग पर सरकार का कोई ध्यान नहीं है। केंद्र की सरकार ने किसान को बर्बाद करने में कोई कसर नहीं छोड़ी है। और किसानों को अपमान सहना पड़ा है। 

बता दें कि अखिलेश यादव शनिवार को कासगंज में सपा और महानदल की किसान महापंचायत को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि किसानों को आतंकवादी, देशद्रोही क्या-क्या नहीं कहा गया, लेकिन इस किसान पंचायत में नौजवान भी बड़ी संख्या में हैं। किसान और नौजवान सब एक साथ हैं। अब यह सरकार को कुर्सी से उतारने का काम करेंगे। 

वहीं सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष ने कहा कि जब यह सरकार कुर्सी से उतर जाएगी तो कानून अपने आप वापस हो जाएंगे। उन्होंने प्रधानमंत्री पर तंज कसते हुए कहा कि पीएम कहते हैं एमएसपी थी, एमएसपी है और एमएसपी रहेगी। यह कैसा झूठ है। उन्होंने कहा कि किसान को 1000-1200 रुपये में अपना धान बेचना पड़ा और किसानों को धान की एमएसपी भी नहीं मिली। उन्होंने कालाधन, नोटबंदी, भ्रष्टाचार पर भी तीखे प्रहार किए। 

पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कहा कि समाजवादी पार्टी और महानदल का रिश्ता अटूट रिश्ता है। पक्का वाला रिश्ता है। क्योंकि यह भी पिछड़े हैं और हम भी पिछड़े हैं। इन्होंने भी धोखा खाया है। हमने भी धोखा खाया है। यह भी किसान हैं, हम भी किसान हैं। 

 

 

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :