इमेज टुडे - ज़िन्दगी में भर दे रंग - समाचारों का द्विभाषीय पोर्टल

कोरोनाः ICSE बोर्ड ने रद्द की 10वीं की परीक्षा, 12वीं की परीक्षा होगी ऑफलाइन      ||      अमेरिकी डॉलर के मुकाबले 23 पैसे मजबूत हुआ रुपया      ||      CEC सुशील चंद्र और चुनाव आयुक्त राजीव कुमार कोरोना पॉजिटिव      ||      कोरोनाः हाईकोर्ट की फटकार के बाद एक्टिव हुई तेलंगाना सरकार, 30 अप्रैल तक नाइट कर्फ्यू      ||      कोरोनाः यूपी में वीकेंड कर्फ्यू, 500 से अधिक एक्टिव केस वाले जिलों में लगेगा नाइट कर्फ्यू      ||      यूपीः हमीरपुर जेल के डिप्टी जेलर की कोरोना से मौत, सीओ और कई डॉक्टर संक्रमित      ||      दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल की पत्नी कोरोना पॉजिटिव      ||     

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद का बड़ा बयान, कहा- समाज को आगे बढ़ाना है तो वनवासी समाज को आगे ले जाना होगा

14-03-2021 19:02:49 111 Total visiter


सोनभद्र। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने रविवार को कहा कि आदिवासी वनवासी समुदाय के विकास के बिना देश और समाज का विकास नहीं हो सकता। पूर्वांचल के तीन दिवसीय दौरे के दूसरे दिन राष्ट्रपति कोविंद ज़िले में बाभनी ब्लाक के कारिडाड़, चपकी स्थित सेवा समर्पण संस्थान द्वारा संचालित सेवा कुंज आश्रम में नवनिर्मित स्कूल , छात्रावास आदि का लोकार्पण करने पहुँचे थे।

उन्होने कहा, “जब भगवान राम ने रावण से युद्ध में विजय पायी थी उसमें वनवासियों का बहुत बड़ा सहयोग था उसी प्रकार यदि देश और समाज आगे बढ़ाना है तो पहले वनवासी समाज को आगे ले जाना होगा।” राष्ट्रपति ने कहा कि सोनभद्र चार प्रदेशों की सीमाओं से घिरा हुआ है, ऐसे स्थान पर स्कूल और हास्टल संचालित होने से उत्तर प्रदेश सहित अन्य प्रदेशों के सीमावर्ती इलाक़ों के वनवासी छात्रों को भी लाभ होगा।

उन्होंने कहा कि वनवासी क्षेत्र उनके लिए तीर्थस्थल जैसे हैं। यदि वनवासी प्रोत्साहित हों तो देश ही नहीं विदेशों में भी भारत का नाम रोशन करेंगे। पिछड़ा,दलित एवं आदिवासियों,वनवासियों का विकास ज़रूरी है। उन्होंने एनटीपीसी द्वारा निर्माण कार्य कराए जाने पर उनकी सराहना की। उन्होंने मुख्यमंत्री एवं राज्यपाल से अनुरोध किया कि केंद्र सरकार से तालमेल बैठाकर वनवासियों को आगे बढ़ाने में योगदान करें।

राष्ट्रपति ने कहा कि भारत की आत्मा वनवासी आदिवासी क्षेत्रों में बसती है यदि कोई भी इस कल्चर से परिचित होना चाहता है तो उसे सोनभद्र जैसे ज़िलों में समय बिताना चाहिए। आदिवासी समाज के विकास के बिना समग्र विकास अधूरा है।  

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :