इमेज टुडे - ज़िन्दगी में भर दे रंग - समाचारों का द्विभाषीय पोर्टल

देशभर में 18 साल से ऊपर के लोगों को वैक्सीनेशन के लिए आज से शुरू हो रहा रजिस्ट्रेशन      ||      लखनऊ: मेदांता अस्पताल में मरीजों की मदद के लिए प्रियंका गांधी ने भेजा ऑक्सीजन का टैंकर      ||      भारत में कोरोना की बिगड़ती स्थिति पर संयुक्त राष्ट्र संघ ने बढ़ाया मदद का हाथ      ||      असम में आए भूकंप पर प्रियंका गांधी ने कहा- असम के लोगों के लिए मेरा प्यार और प्रार्थनाएं      ||      PM CARES से DRDO खड़े करेगा 500 ऑक्सीजन प्लांट      ||     

इलाहाबाद विश्वविद्यालय की वाइस चांसलर ने डीएम को लिखा पत्र, कहा- 'अज़ान से टूट जाती है नींद'

17-03-2021 17:21:05 185 Total visiter


इलाहाबाद। इलाहाबाद विश्व विद्यालय की वाइस चांसलर संगीता श्रीवास्तव ने प्रयागराज के डीएम को पत्र लिख कर कहा है कि उनके आवास के पास की मस्जिद में होने वाली अज़ान के चलते उन्हें सोने में दिक्कत होती है। इसलिए उन्हें इससे निजात दिलाई जाई। 

वीसी ने अपने खत में लिखा है कि, "रोज़ सुबह करीब 5.30 बजे मस्जिद के मौलवी की अज़ान से मेरी नींद टूट जाती है और फिर नींद नहीं आती। नतीजे में मुझे सिर दर्द हो जाता है और दिन के काम पर भी असर पड़ता है। पुरानी कहावत है कि आपकी आज़ादी वहीं खत्म हो जाती है, जहां से मेरी नाक शुरू होती है।

साथ ही उन्होंने कहा, 'मैं किसी मज़हब के खिलाफ नहीं हूं,लेकिन अगर बिना लाउडस्पीकर के अज़ान हो तो किसी को दिक्कत नहीं होगी। ईद के पहले सुबह 4 बजे सहरी खाने का भी माइक से एलान होगा। संविधान सभी नागरिकों के धर्मनिरपेक्ष सहअस्तित्व की बात कहता है। इसे पूरी तरह लागू होना चाहिए। कृपया इस तेज अजान से पीड़ित सभी लोगों की ज़िंदगी में थोड़ी शांति बहाल करें।

वीसी संगीता श्रीवास्तव ने अपने खत में इसे लागू करवाने के लिए इलाहाबाद हाई कोर्ट के एक फैसले का भी जिक्र किया है। उनके इस खत पर इलाहाबाद पुलिस के डीआईजी कवींद्र प्रताप सिंह ने बताया कि ऐसा एक खत डीएम के पास आया है। ध्वनि प्रदूषण पर हाईकोर्ट का आर्डर है, जिसके मुताबिक एक तयशुदा सीमा से ज्यादा शोर नहीं किया जा सकता। और रात में 10 से सुबह 6 बजे तक लाउडस्पीकर बजाने पर रोक है। इसे लागू करवाया जाएगा।

वहीं, मस्जिद का इंतजाम देखने वाली कमेटी के सदस्य मोहम्मद कलीम ने कहा कि 'ज़िला प्रशासन से उन्होंने लाउडस्पीकर लगाने की इजाज़त ली हुई है। पुलिस के लोग आए थे। उन्होंने वीसी साहिबा के एतराज़ के बारे में बताया था। इसलिए हमने अब मस्जिद के लाउडस्पीकर का वॉल्यूम और कम कर दिया है ताकि उन्हें अज़ान की आवाज़ से दिक्कत ना हो।

इस पर आल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के मेंबर खालिद रशीद ने आज लखनऊ में वीडियो बयान जारी कर कहा है कि, 'इलाहाबाद यूनिवर्सिटी की वीसी की मांग की हम निंदा करते हैं। यह मुल्क गंगा-जमुनी तहजीब के लिए जाना जाता है। इस मुल्क में लोग एक दूसरे के मज़हब की इज्जत और एहतेराम करते हैं। यही वजह है कि मस्जिदों से अजानें और मंदिरों से भजन कीर्तन की आवाजें फिजां में गूंजती हैं। कभी किसी की नींद में उससे खलल नहीं पड़ा। 

हाईकोर्ट का इस सिलसिले में जो आर्डर है,उस पर मस्जिदों में अमल हो रहा है। लिहाज़ा मेरी दरख्वास्त है कि हम सब सही मायनों में अपने-अपने मज़हब पर अमल करें और बेमक़सद बातों में अवाम को न उलझाएं।'

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :