इमेज टुडे - ज़िन्दगी में भर दे रंग - समाचारों का द्विभाषीय पोर्टल

कोरोनाः ICSE बोर्ड ने रद्द की 10वीं की परीक्षा, 12वीं की परीक्षा होगी ऑफलाइन      ||      अमेरिकी डॉलर के मुकाबले 23 पैसे मजबूत हुआ रुपया      ||      CEC सुशील चंद्र और चुनाव आयुक्त राजीव कुमार कोरोना पॉजिटिव      ||      कोरोनाः हाईकोर्ट की फटकार के बाद एक्टिव हुई तेलंगाना सरकार, 30 अप्रैल तक नाइट कर्फ्यू      ||      कोरोनाः यूपी में वीकेंड कर्फ्यू, 500 से अधिक एक्टिव केस वाले जिलों में लगेगा नाइट कर्फ्यू      ||      यूपीः हमीरपुर जेल के डिप्टी जेलर की कोरोना से मौत, सीओ और कई डॉक्टर संक्रमित      ||      दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल की पत्नी कोरोना पॉजिटिव      ||     

महज 26 दिनों में बच्ची को मिला इंसाफ, आरोपी को कोर्ट ने सुनाई फांसी की सजा

Shikha Awasthi 18-03-2021 15:11:48 173 Total visiter


जयपुर। राजस्थान के झुंझुनूं जिले में मात्र 26 दिनों में एक बच्ची को इंसाफ मिला है। विशेष पोक्सो अदालत ने 5 साल की बच्ची के साथ दुष्कर्म के जुर्म में 20 साल के सुनील कुमार को दोषी ठहराते हुए फांसी की सजा सुनाई है। झुंझुनू जिले के पिलानी में बच्ची के साथ 19 फरवरी को रेप हुआ था। पुलिस ने जांच कर घटना के मात्र नौ दिन में अदालत में आरोप पत्र दायर किया और प्रकरण में 40 गवाह जुटाकर अदालत से आरोपी को सिर्फ 26 दिन में सजा दिलवा दी।

पुलिस महानिरीक्षक हवासिंह घुमरिया ने बताया कि 19 फरवरी की शाम को बच्ची खेत में अपने भाई-बहनों के साथ खेल रही थी। इसी दौरान स्कूटी पर आए आरोपी कुमार ने उसका अपहरण कर लिया। मासूम के भाई-बहनों ने उसका पीछा भी किया था, लेकिन वे उसे नहीं पकड़ पाए। बच्ची रात में सुनसान जगह पर लहूलुहान स्थिति में मिली थी। घटना के पांच घंटे बाद ही पुलिस ने शाहपुर निवासी कुमार को गिरफ्तार कर लिया।

वहीं घुमरिया ने बताया कि इस मामले में 40 से अधिक गवाह जुटाए गए और साथ ही करीब 250 दस्तावेज बतौर सबूत पेश किए गए। पुलिस ने इस मामले में रोजाना 12 से 13 घंटे काम किया और आरोप पत्र दायर कर दिया। बता दें कि पॉक्सो कानून लागू होने के बाद किसी बच्ची से रेप के दोषी व्यक्ति को फांसी की सज़ा सुनाए जाने का जिले में यह दूसरा मामला है। 3 साल पहले ऐसे ही एक मामले में दोषी विनोद कुमार को फांसी की सजा सुनाई गई थी।

वहीं मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने इस फैसले को पुलिस, न्यायपालिका की दक्षता और सरकार की पीड़िता को न्याय दिलाने की प्रतिबद्धता का उदाहरण बताया है। उन्होंने ट्वीट किया, ‘'दुष्कर्म के मामले में आरोपी के खिलाफ पुलिस ने नौ दिन में चालान (आरोप पत्र) पेश किया तथा पॉस्को अदालत ने 26 दिन में उसे फांसी की सजा सुनाई है। यह पुलिस, न्यायपालिका की दक्षता और सरकार की पीड़िता को न्याय दिलाने की प्रतिबद्धता का उदाहरण है।'’

 

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :