इमेज टुडे - ज़िन्दगी में भर दे रंग - समाचारों का द्विभाषीय पोर्टल

कोरोनाः ICSE बोर्ड ने रद्द की 10वीं की परीक्षा, 12वीं की परीक्षा होगी ऑफलाइन      ||      अमेरिकी डॉलर के मुकाबले 23 पैसे मजबूत हुआ रुपया      ||      CEC सुशील चंद्र और चुनाव आयुक्त राजीव कुमार कोरोना पॉजिटिव      ||      कोरोनाः हाईकोर्ट की फटकार के बाद एक्टिव हुई तेलंगाना सरकार, 30 अप्रैल तक नाइट कर्फ्यू      ||      कोरोनाः यूपी में वीकेंड कर्फ्यू, 500 से अधिक एक्टिव केस वाले जिलों में लगेगा नाइट कर्फ्यू      ||      यूपीः हमीरपुर जेल के डिप्टी जेलर की कोरोना से मौत, सीओ और कई डॉक्टर संक्रमित      ||      दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल की पत्नी कोरोना पॉजिटिव      ||     

नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी ने 26 मार्च को किया बिहार बंद का आवाहन, इन मुद्दों के खिलाफ उतरेंगे सड़क पर

25-03-2021 15:16:27 170 Total visiter


पटना। बिहार में जारी सियासी संग्राम के बीच नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने कल यानी 26 मार्च को बिहार बंद का ऐलान किया है। बता दें कि विधानसभा में हुई शर्मसार कर देने वाली घटना से नाराज तेजस्वी यादव ने विपक्ष की सभी पार्टियों के साथ मिलकर बिहार बंद का ऐलान किया है।

तेजस्वी ने बंद का ऐलान करते हुए कहा कि जिस तरह से विधानसभा में विपक्ष के विधायकों के साथ मारपीट की गई, वो मैं भूलने वाला नहीं हूं। इसलिए कल शुक्रवार को हम सभी मिलकर मजबूती से इस मुद्दे को सड़क पर उठाएंगे। इसके साथ ही बेरोजगारी, किसान समेत अन्य मुद्दों पर भी आवाज बुलंद की जाएगी।

सूबे की पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी के आवास पर आयोजित प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान तेजस्वी यादव ने मुख्यमंत्री नीतीश पर निशाना साधते हुए कहा कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से बड़ा झूठ इंसान कोई नहीं है। " मुख्यमंत्री जी मर्यादा की बात कर रहे हैं, ये तब कहां थे, जब उनके मंत्री स्पीकर को उंगली दिखा कर सदन के अंदर बदतमीजी कर रहे थे। तब क्या उन्हें मर्यादा का ख्याल नहीं आया।"

तेजस्वी ने कहा  सीएम नीतीश को इतिहास पता होना चाहिए। ये कोई पहली बार अध्यक्ष के चेंबर को नहीं घेरा गया था। उन्हें अपनी यादाश्त तेज करनी चाहिए। लोकनायक कर्पूरी ठाकुर के समय में अध्यक्ष की कुर्सी पर बैठ कर सदन चलाया गया था।

तभी तो किसी ने पुलिस नहीं बुलाई थी। लेकिन, उन्होंने पुलिस बुलायी। जेडीयू की पुलिस ने लोकतंत्र के मंदिर में विधायकों को लात-घूंसों से पीटा। महिला विधायकों के कपड़े खोले गए।

इसके साथ ही उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री ने सदन में मुझे धमकाया। मेरे हर बात पर आग बबूला हो जाते हैं। इस बार के सत्र मंत्रियों ने बहस का स्तर गिराया। बंदूक के बल पर बिल पेश किया गया और उसे पास कराया गया।

बिहार पुलिस अब जेडीयू पुलिस हो गई है। लेकिन, हम बीजेपी के लोग नहीं हैं, जो लाठी डंडे से डर जाएं। ऐसे में 26 तारीख को किसानों का मुद्दा तो है ही, हम सभी बेरोजगारी और जो विधायकों के साथ मारपीट किया गया, उसके विरोध में बिहार बंद करेंगे।

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :