इमेज टुडे - ज़िन्दगी में भर दे रंग - समाचारों का द्विभाषीय पोर्टल

कोरोनाः ICSE बोर्ड ने रद्द की 10वीं की परीक्षा, 12वीं की परीक्षा होगी ऑफलाइन      ||      अमेरिकी डॉलर के मुकाबले 23 पैसे मजबूत हुआ रुपया      ||      CEC सुशील चंद्र और चुनाव आयुक्त राजीव कुमार कोरोना पॉजिटिव      ||      कोरोनाः हाईकोर्ट की फटकार के बाद एक्टिव हुई तेलंगाना सरकार, 30 अप्रैल तक नाइट कर्फ्यू      ||      कोरोनाः यूपी में वीकेंड कर्फ्यू, 500 से अधिक एक्टिव केस वाले जिलों में लगेगा नाइट कर्फ्यू      ||      यूपीः हमीरपुर जेल के डिप्टी जेलर की कोरोना से मौत, सीओ और कई डॉक्टर संक्रमित      ||      दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल की पत्नी कोरोना पॉजिटिव      ||     

लोकसभा की कार्यवाही अनिश्चित काल के लिए स्थगित, राष्ट्रपति के अभिभाषण के साथ शुरू हुआ था सत्र

25-03-2021 20:47:05 26 Total visiter


नई दिल्ली। लोकसभा की कार्यवाही गुरुवार को अनिश्चित काल के लिए स्थगित कर दी गयी। पीठासीन अधिकारी भर्तृहरि महताब ने प्रश्न काल के तत्काल बाद सदन की कार्यवाही अनिश्चित काल के लिए स्थगित करने की घोषणा करते हुए कहा कि दो चरणों मे संचालित इस सत्र के दौरान सदन में 114 फीसदी काम हुआ।
उन्होंने कहा कि बजट सत्र 29 जनवरी को राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद के अभिभाषण के साथ आरम्भ हुआ था और सत्रहवीं लोक सभा के अन्य सत्रों की भांति बजट सत्र में भी बहुत कामकाज हुआ।

उन्होंने बताया कि सत्र के दौरान सभा की 24 बैठकें हुई, जो 132 घंटे तक चलीं। इस सत्र के दौरान सदन का कामकाज 114 प्रतिशत रहा। इससे पहले प्रथम सत्र में 125 प्रतिशत, दूसरे सत्र में 115 प्रतिशत, तीसरे सत्र में 117 प्रतिशत और चौथे सत्र में रिकॉर्ड 167 प्रतिशत कार्य हुआ था। पीठासीन अधिकारी ने कहा, “ बजट सत्र में,विभिन्न महत्वपूर्ण विषयों पर चर्चा करने के लिए सदन 48 घंटे और 23 मिनट देर तक चला।

 सत्र के प्रथम चरण में राष्ट्रपति के अभिभाषण पर धन्यवाद प्रस्ताव पर 16 घंटे 58 मिनट तक चर्चा हुई और इसमें 149 सदस्यों ने भाग लिया। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा धन्यवाद प्रस्ताव के उत्तर के बाद सदन ने प्रस्ताव सर्वसम्मति से पारित किया। ” श्री महताब ने कहा कि एक फरवरी को पेश किये गए केन्द्रीय बजट पर 14 घंटे और 42 मिनट तक चर्चा हुई जिसमें कुल 146 सदस्यों ने भाग लिया।

उन्होंने कहा,“ वर्ष 2021-22 के लिए रेल मंत्रालय, शिक्षा मंत्रालय तथा स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय के अनुदानों की मांगों पर सदन में चर्चा की गई। इस चर्चा में कुल 21 घंटे और 43 मिनट का समय लगा। वर्ष 2021-22 के लिए केन्द्रीय बजट के संबंध में शेष सभी मंत्रालयों की बकाया अनुदानों की मांगों को 17 मार्च, 2021 को सभा की स्वीकृति के लिए एक साथ रखा गया और उन्हें स्वीकृत करने के बाद संबंधित विनियोग विधेयक को पारित किया गया।”

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :