कृष्ण जन्माष्टमी 2021: जानिए क्यों मनाया जाता है दही हांडी उत्सव

0 243

धर्म/ आध्यात्म। देशभर में कृष्ण जन्माष्टमी का त्यौहार सोमवार यानी 30 अगस्त को मनाया जाएगा। इस दिन देशभर में लोग भगवान कृष्ण की आराधना करते हैं और व्रत रखते हैं। जन्माष्टमी के असवर पर कई जगह भगवन कृष्ण की लीलाओं का मंचन भी किया जाता है। इस दिन को सद्भावना और बुराई पर अच्छाई की जीत के प्रतीक मनाया जाता है। देशभर में कृष्ण जन्माष्टमी के मौके पर लोग अपने घरों के साथ-साथ मंदिरों को भी खूब सजाते है। जन्माष्टमी के मौके पर कई कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं, इन्हीं में से एक है दही हांडी भी है।

क्यों मनाया जाता है दही हांडी उत्सव

कृष्ण जन्माष्टमी के दिन दही हांडी का उत्सव धूम-धाम से मनाया जाता है। इस दिन भगवान के जन्म की खुशियां मनाने के लिए दही हांडी का आयोजन किया जाता है। भगवान कृष्ण को दही और मक्खन बहुत पसंद है, वह इन सभी चीजों को चुराकर खाया करते थे। इसलिए गांव की महिलाएं दूध,दही और मक्खन की चीजों को किसी ऊंची जगह पर रखा करती थीं। लेकिन कृष्ण उन्हें चुराने की एक नई तरकीब निकालते और तब वह अपने दोस्तों के संग मिलकर मानव पिरामिड बनाते थे। इस तरह वह दही और मक्खन चुराया करते थे। इसके बाद से ही कृष्ण जन्माष्टमी के दिन दही हांडी उत्सव मनाया जाने लगा।

कहां मनाया जाता है दही हांडी उत्सव

वैसे तो दही हांडी उत्सव पूरे देश में मनाया जाता है। लेकिन महाराष्ट्र और गुजरात में दही हांडी का उत्सव विशेषरूप से मनाया जाता है। महाराष्ट्र में कई दही हांडी प्रतियोगिता का आयोजन किया जाता है। जिसे जितने वाले को ईनाम के रूप में कई उपहार भी दिए जाते हैं।

Leave A Reply