पंजाब में CM चन्नी के मंत्रिमंडल विस्तार से सिद्धू नाराज , नामों पर मंथन जारी

0 239

चंडीगढ़.। पंजाब कांग्रेस (Punjab Congress) में मची घमासान खत्म होते नहीं दिखाई दे रही है. कांग्रेस हाईकमान ने चरणजीत सिंह चन्नी (Charanjit Singh Channi) की मुख्यमंत्री पद पर ताजपोशी तो कर दी, लेकिन अभी नए सीएम के मंत्रिमंडल को तय करने के लिए राहुल गांधी (Rahul Gandhi) सहित कांग्रेस के कई दिग्गज मंत्री बनाये जाने के लिए लगे हैं. बीते शुक्रवार को भी राहुल गांधी के आवास पर मंत्रिमंडल को फाइनल करने के लिए रात 2 बजे से सुबह चार बजे तक बैठक चली और मंत्रिमंडल की उस सूची पर विचार किया गया जिसे हाईकमान ने बीते गुरुवार को तैयार कर लिया था.

इंडियन एक्सप्रेस ने सूत्रों के हवाले से एक रिपोर्ट में कहा है कि नए राज्य मंत्रिमंडल के चयन पर सीएम चरणजीत सिंह चन्नी और पीपीसीसी प्रमुख नवजोत सिद्धू के बीच मतभेद हैं. जिसके चलते मंत्रिमंडल के विस्तार में देरी हो रही है. पिछले कुछ दिनों में सीएम का दिल्ली का यह तीसरा दौरा है. उन्हें बीते शुक्रवार सुबह ही उन्हें दिल्ली दोबारा बुलाया गया था. इसमें अहम बात यह है कि पार्टी आलाकमान ने तीन में से दो बैठकों के लिए सिद्धू को नहीं बुलाया था.

सूत्रों ने बताया कि सिद्धू और चन्नी कई विधायकों को कैबिनेट में शामिल करने पर एकमत नहीं थे. राजा वड़िंग, परगट सिंह और कुलजीत नागरा को शामिल करने पर दोनों के बीच मतभेद सामने आए हैं. जबकि सिद्धू तीनों का पुरजोर समर्थन कर रहे हैं. चन्नी का मानना है कि संगठन के लोगों को पार्टी पर ध्यान केंद्रित करना चाहिए,क्योंकि चुनाव नजदीक हैं. परगट सिंह पीपीसीसी महासचिव हैं और नागरा कार्यकारी अध्यक्ष हैं.

इसके साथ सिद्धू, राजा वड़िंग का समर्थन कर रहे हैं, लेकिन पूर्व वित्त मंत्री मनप्रीत सिंह बादल उनका कड़ा विरोध कर रहे हैं. बादल ने चन्नी के सीएम बनने में भी अहम भूमिका निभाई थी. चन्नी को गुरुवार को दिल्ली बुलाया गया था और उन्होंने वरिष्ठ नेता केसी वेणुगोपाल, प्रभारी महासचिव हरीश रावत, हरीश चौधरी और अजय माकन और अंत में राहुल गांधी के साथ दो दौर की बैठकें की थीं. राहुल गांधी की पूर्व पीपीसीसी प्रमुख सुनील जाखड़ से करीब 45 मिनट तक मुलाकात के बाद शुक्रवार को उन्हें फिर से बैठक के लिए बुलाया गया था.

बताया जा रहा है कि जाखड़ का भी कुछ विधायकों को मंत्री बनाए जाने पर विचार था. पार्टी जाखड़ को मंत्रिमंडल में एक भूमिका स्वीकार करने के लिए प्रभावित करने की कोशिश कर रही है, लेकिन वह मना कर रहे हैं. बैठक की जानकारी रखने वाले सूत्रों ने बताया कि जाखड़ ने राहुल से कहा है कि वह सरकार में कोई पद नहीं चाहते हैं.

इस हलचल से पहले पंजाब में कांग्रेस कैबिनेट मंत्रियों की सूची की प्रतीक्षा कर रही थी, क्योंकि मुख्यमंत्री ने अपने सहयोगियों को बताया था कि सूची को अंतिम रूप दिया गया है, इसे अंतिम रूप के लिए एआईसीसी प्रमुख सोनिया गांधी के सामने रखा जाना था. जबकि पार्टी अमरिंदर के मंत्रिमंडल के अधिकांश मंत्रियों को बरकरार रखे हुए है, उसे केवल कुछ नए मंत्रियों को शामिल करना है. लेकिन कुछ पर विरोध किये जाने के कारण अंतिम फैसला नहीं लिया जा रहा है.

Leave A Reply