कंगना की टिप्पणी से भड़के सिख, दिल्ली असेंबली ने दिया समन, LKO में जांच के आदेश

0 29

नई दिल्ली। सिख समुदाय पर अपमानजनक बयानबाजी कर बॉलीवुड एक्ट्रेस कंगना रनौत घिरती नजर आ रही हैं। दिल्ली असेंबली ने इस संबंध में एक्ट्रेस को समन भेजा है। जबकि कंगना की विवादित टिप्पणी से भड़के यूपी की राजधानी लखनऊ के नाका गुरुद्वारा कमेटी के अध्यक्ष राजेंद्र सिंह बग्गा ने पुलिस तहरीर देते हुए कार्रवाई की मांग की है । बग्गा की तहरीर पर डीसीपी वेस्ट सोमेन वर्मा ने मामले की जांच के आदेश दिये जारी कर दिए हैं।

अपने बड़बोले बयानों से सुर्खियों बटोरने वाली मशहूर बॉलीवुड एक्ट्रेस कंगना रनौत को दिल्ली विधानसभा के शांति और सद्भाव समिति की और से समन जारी कर दिया गया है। समन में उन्हें 6 दिसंबर को दोपहर 12 बजे तक समिति के समक्ष पेश होने को कहा गया है। आपको बता दे कि पिछलें दिनों एक्ट्रेस ने सिख समुदाय पर अपमानजनक टिप्पणी की थी। इसे लेकर उन्हें समन जारी किया गया है।

आम आदमी पार्टी के विधायक राघव चड्ढा शांति और सद्भाव समिति के अध्यक्ष हैं। वहीं दिल्ली के सिख गुरुद्वारा समिति के प्रबंधक ने इंस्टाग्राम पर सिख समुदाय के खिलाफ गलत बयांन देने और आपत्तिजनक टिप्पणी करने को लेकर कंगना रनौत के खिलाफ पुलिस में शिकायत दर्ज की है। समिति द्वारा पुलिस को दिए गए बयान के अनुसार कंगना के खिलाफ मंदिर मार्ग थाने के साइबर सेल में मामला दर्ज कराया गया है।

पुलिस को सौपे गए शिकायत पत्र में आरोप लगाया गया है कि कगना ने यह सब सोच समझ और ‘जानबूझकर के तीनो कृषि कानूनों के खिलाफ सालभर से किए जा रहे विरोध प्रदर्शन को ‘खालिस्तानी’ आंदोलन के रूप में दिखाया और उन्हें ‘खालिस्तानी आतंकवादी’ कहा गया । इसी बयांन को आधार बनाकर कगना रनोत पर सिख समुदाय के खिलाफ अपमानजनक और आपत्तिजनक भाषा का प्रयोग करने का आरोप लगाया गया है। तथा इस पोस्ट को सिख समुदाय की भावना को आहत पहुंचने के लिए पोस्ट किया गया है।

क्या लिखा था कंगना ने अपनी इंस्ट्राग्राम पोस्ट में ?

कंगना के इस पोस्ट के खिलाफ देश के कई स्थानों के अलग -अलग पुलिस स्टेशन में एफआईआर दर्ज कराई गई है। अपने इंस्टाग्राम पोस्ट में एक्ट्रेस ने लिखा था, ‘खालिस्तानी आतंकवादी आज भले ही सरकार का हाथ मरोड़ रहे हों, लेकिन उस एक महिला को नहीं भूलना चाहिए। इकलौती महिला प्रधानमंत्री ने इनको अपनी जूती के नीचे कुचल दिया था। चाहे उन्होंने इस देश को कितना ही नुकसान क्यों न पहुंचाया हो मगर अपनी जान की कीमत पर उन्हें मच्छरों की तरह कुचल दिया। लेकिन देश के टुकड़े नहीं होने दिए।’